Politics

EXCLUSIVE : UN में पाकिस्तान ने फिर कराई अपनी फजीहत , पाक की फर्जी तस्वीरों का खेल आया दुनिया के सामने

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

पाकिस्तान अपनी नापाक करतूतों के वजह से लगातार अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत के खिलाफ जहर उगलकर अपनी ही फजीहत करा रहा है. एक बार फिर पाकिस्तान ने फर्जी तस्वीरों का सहारा लेकर भारत को बदनाम करने की कोशिश की. पाकिस्तान ने  फर्जी तस्वीर को कश्मीर में पीड़ितों की तस्वीर के रुप में दिखाया. वास्तव में तस्वीर नंबर 10 वीं और 17 वां पाकिस्तान विरोधी हैं. लेकिन पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में इससे भारत विरोधी तस्वीर के तौर पर पेश किया. 

दरअसल, यूएन में कश्मीर के हालात का जिक्र करते हुए पाकिस्तान ने फर्जी तस्वीरों का सहारा लिया .

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने पाक सरकार के डाक विभाग द्वारा जारी कश्मीर पर टिकटों का मुद्दा उठाया. बता दें पाकिस्तान के डाक विभाग ने हाल ही में टिकट जारी किए हैं. जिसमें 2016 में मारे गए हिज्बुल कमांडर बुरहान वानी समेत कई अन्य आंतकियों को हीरो बताया गया है. इसी वजह से संयुक्त राष्ट्र महासभा के इतर विदेश मंत्रियों सुषमा स्वराज और शाह महसूद कुरैशी के बीच वार्ता को रद्द कर दिया गया था. 

भारत ने कहा है कि पाकिस्तान ने इन 20 डाक टिकटों को जारी कर आतंकियों को महिमामंडित करने का काम किया है. 

रिपब्लिक भारत के पास पाकिस्तान द्वारा अंतराष्ट्रीय मंच पर भारत को बदनाम करने के लिए प्रयोग किए गए दो टिकटों की असली तस्वीर मौजूद है. 

वर्ष 2014 की तस्वीर

पाकिस्तान के डाक विभाग द्वारा जारी किए गए इन टिकटों में 10 वीं तस्वीर 2014 में कश्मीरी पंडितों द्वारा विरोध प्रदर्शन किए जाने के दौरान की है. कश्मीरी पंडितों ने पाकिस्तान प्रायोजित आतंक के खिलाफ नई दिल्ली में विरोध प्रदर्शन किया था. यह कश्मीरी पंड़ितों के जनसंहार और हत्याओं के 24 वीं वर्षगांठ के मौके पर जंतर मंतर में आयोजित किया गया था. 

बता दें पाकिस्तान प्रायोजित आतंक की वजह से 1990 के दशक में कश्मीर घाटी में कश्मीरी पंडितों के जनसंहार और हत्याओं की कई घटनाओं के बाद वहां से पलायन कर दिया था. मगर पाकिस्तान इस तस्वीर का सहारा लेकर भारत को बदनाम करने की कोशिश कर रहा है. 

वर्ष 2000 की तस्वीर 

पाक के इन डाक टिकटों की आखिरी लाइन पर दूसरी तस्वीर कश्मीर में पाक आतंकवादियों द्वारा सिख समुदाय के चट्टिसंग पुर नरसंहार की है. 20 मार्च 2000 को कश्मीर अंनतनाग जिले के छत्तीसिंहपुरा में अल्पसंख्यक सिख समुदाय के 35 लोगों की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी. इस घटना को अंजाम पाक समर्थित इस्लामिक कट्टर समूह लश्कर - ए - तैयबा के आंतकिवदियों ने दिया था. 

पाकिस्तान ने भारत के बार में झूठ फैलाने के लिए फर्जी तस्वीरों दिखाकर संयुक्त राष्ट्र महासभा को गुमराह करने की कोशिश की है.

 

DO NOT MISS