Law and Order

शशि कुमार मर्डर केस में NIA ने सप्लीमेंट्री चार्जशीट में PFI के 4 एक्टिव मेंबर का नाम, 'जाकिर नाईक लिंक' का भी हुआ खुलासा

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने  हिंदू मुन्नानी समूह  के 40 वर्षीय प्रवक्ता शशि कुमार की हत्या मामले में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के चार सक्रिय सदस्यों के खिलाफ एक सप्लीमेंट्री चार्जशीट दायर की है. 
बता दें, दो साल पहले चार लोगों के एक गिरोह ने हिंदू मुन्नानी समूह के 40 वर्षीय प्रवक्ता की हत्या कर दी थी, जिसके बाद जिले और उसके आसपास के इलाकों में तनाव की स्थिति पैदा हो गई थी.

जांच के दौरान पाए गए अपराधों और अन्य तथ्यों की महत्व को ध्यान में रखते हुए, इस मामले इस साल की शुरुआत में जनवरी में एनआईए को सौपा दिया था. 

जिसके बाद, एनआईए ने 29 जनवरी को गैरकानूनी गतिविधियों (रोकथाम) अधिनियम, 1967 के भारतीय दंड संहिता धारा 120 बी, 153 ए, 302, और धारा 16 और 18 के तहत मामला फिर से दर्ज कर लिया गया था.

इसके अलावा,  पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के इन चार आरोपी सदस्यों के साथ जाकिर नाईक के संबध को लेकर एजेंसी ने अहम खुलासा किया है. जांच के दौरान, एनआईए ने 18 मार्च को चार आरोपी लोगों के घरों में छनबीन की थी ,जिसमें पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) दान रसीदें, पीएफआई साहित्य, पीएफआई यूनिटी मार्च सीडी, मोबाइल फोन, कॉम्पैक्ट डिस्क और पेन ड्राइव मिले थे.

इस्लामी रिसर्च फाउंडेशन के जकीर नाइक और पीएफआई से संबंधित अन्य संदिग्ध दस्तावेज भी हासिल हुए थे . 

इससे पहले एनआईए ने पहले 7 अप्रैल को चेन्नई में एनआईए स्पेशल कोर्ट के समक्ष सद्दाम हुसैन और सुबेयर नामक दो अन्य आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया था .

जांच में यह पाया गया है कि सैयद अबु थार, सद्दाम हुसैन, सुबेयर और मोहम्मद मुबारक अन्य आरोपी व्यक्तियों के बीच पीएफआई के सभी सक्रिय सदस्य हैं और उन्होंने लोगों के एक समूह के बीच आतंक फैलाने के लिए शशि कुमार की साजिश रच कर हत्या कर दी थी .

गौरतलब है कि शशि कुमार जिले में हिंदू मुन्नानी समूह के प्रवक्ता थे और 1 अक्टूबर, 2016  वो सुब्रमानियमपलयम से दो पहिया वाहन पर घर लौट रहे थे. उसी समय कुछ अज्ञात लोगों ने मोटसाइकिल से उनका पीछा किया और उन पर हसिया से हमला कर दिया .

DO NOT MISS