General News

समुद्र तट पर पीएम मोदी के सफाई अभियान को घेरने के लिए कार्तिक चिंदबरम ने पोस्ट की 14 साल पुरानी फर्जी तस्वीर, यूजर्स ने जमकर लताड़ा

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाबलीपुरम के तट पर शनिवार सुबह स्वच्छता अभियान चलाया और लोगों को साफ-सफाई के प्रति जागरूक रहने का संदेश दिया। उनकी साफ-सफाई का एक वीडियो भी सामने आया है। जिसमें वह खुद समुद्र तट पर पड़े कूड़े को उठा रहे हैं। इसका वीडिया प्रधानमंत्री ने अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया। जिस पर लोग अपनी प्रतिक्रिया देते हुए पीएम मोदी के स्वच्छता के प्रति समर्पण की जमकर तारीफ कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस नेता पी चिदंबरम के सासंद बेटे कार्ति चितंबरम को बुरा लग गया।

दरअसल, तमिलनाडु के शिवगंगा क्षेत्र से कांग्रेस सांसद कार्ति चिंदबरम ने शनिवार रात तीन तस्वीरें ट्वीट की। उनमें से दो तस्वीरें पीएम की समुद्र तट पर पड़े कूड़े उठाते हुए हैं और तीसरी तस्वीर में एक सुसज्जित कैमरा क्रू की है। उन्होंने ट्वीट के कैप्शपन में जय श्री राम लिखा।

खबर लिखे जाने तक कार्ति चितंबरम के इस पोस्ट को 2,600 से अधिक यूसर्जस ने पंसद किया और लगभग 800 से ज्यादा बार रीट्वीट किया गया। वहीं कुछ यूसर्ज ने चितंबरम को जमकर लताड़ लगाई। 

पड़ताल में कार्ति चितंबरम द्वारा ट्वीट की गई कैमरा क्रू वाली वायरल तस्वीर फर्जी निकली। जानकारी के अनुसार यह तस्वीर लगभग 14 साल पुरानी है और यह तस्वीर तब ली गई थी जब एक टीवी प्रोडक्शन क्रू स्कॉटलैंड के वेस्ट सैंड्स समुद्र तट पर शूट कर रही थी। अगर आप इस तस्वीर को ध्यान से देखें तो इन क्रू मैंबर में ज्यादातर विदेशियों की तरह दिखने वाले मैंबर नजर आ रहे हैं।


बता दें ये क्रू मैंबर स्कॉटलैंड के डंडी शहर स्थित एक संगठन tayscreen की है।  यह संस्थान वहां सरकारी काम काज के लिए काम करता है। और यह तस्वीर उनके बेवसाइट पर भी लगी हुई है।

 

इधर फर्जी तस्वीर पोस्ट करने पर यूजर @ pillai_007 समेत कई यूजर्स ने कार्ति के पोस्ट पर उनकी जमकर क्लास लगाई। 


बता दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से अनौपचारिक मुलाकात करने के लिए महाबलीपुरम पहुंचे थे। जिनपिंग दो दिन के भारत दौरे पर आए हुए थे। बीते शुक्रवार शाम को दोनों नेताओं के बीच बैठक हुई। रात्रिभोज पर दोनों नेताओं ने करीब ढाई घंटे तक चर्चा की। बैठक में आतंकवाद, कट्टरपंथ, व्यापारिक संतुलन पर बात हुई।

DO NOT MISS