General News

उमर अब्दुल्ला पर PM मोदी का पलटवार, कहा- 'वो कहते हैं कि हिंदुस्तान में दो प्रधानमंत्री होंगे'

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

उमर अब्दुल्ला को प्रधानमंत्री की कुर्सी से कुछ ज्यादा ही लगाव है, या फिर वो इस कुर्सी पर विराजमान होने की ख्वाहिश रखते हैं। तभी तो उन्होंने कुछ ऐसा बोल दिया, जिससे वो अचानक से सुर्खियों में आ गए। और उनके बयान के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी उनपर तीखा हमला बोला है।

पीएम मोदी ने अब्दुल्ला पर निशाना साधते हुए कहा कि वो कहते हैं कि हम घड़ी की सुई पीछे ले जाएंगे और 1953 के पहले की स्थिति पैदा करेंगे। और हिंदुस्तान में दो प्रधानमंत्री होंगे। कश्मीर का प्रधानमंत्री अलग होगा। 

मोदी ने हमला बोलते हुए कहा कि मैं ज़रा जानना चाहता हूं, जवाब कांग्रेस को देना पड़ेगा। महागठबंधन के सभी पार्टनरों को जवाब देना पड़ेगा, इस चुनाव में उनको जवाब देना पड़ेगा। क्या कारण है कि उनका साथी दल इस प्रकार की बात बोलने की हिम्मत कर रहा है। 

एक पुराने किस्से का जिक्र करते हुए उन्होंने बोला कि कुछ दिन पहले उनके एक पार्लियामेंट के उम्मीदवार ने ऐसी ही बदतमीजी की थी। भारत को गाली देने की खुली घोषणा की थी। लेकिन कांग्रेस पार्टी और नेशनल कॉन्फ्रेंस इस विषय में चुप बैठे हैं। 

आगे हमलावर होते हुए पीएम बोले, ''उन्होंने कहा है कश्मीर का अलग प्रधानमंत्री होगा। मैं इस महागठबंधन के सभी साथियों को पूछना चाहता हूं। बंगाल की दीदी बहुत चिल्लाती हैं आप ज़रा जवाब दीजिए। क्या नेशनल कॉन्फ्रेंस के दूसरे प्रधानमंत्री की मांग इससे आप सहमत हैं कि नहीं है। देश की जनता को जवाब दीजिए। यहां पड़ोस में आंध्र प्रदेश में यू-टर्न बाबू बैठे हैं। वो दो दिन पहले फारुख अब्दुल्ला के साथ जुलूस निकाल रहे थे।''

गौरतलब है कि उमर अब्दुल्ला ने एक विवादित टिप्पणी करते हुए ये मांग की है कि कश्मीर में अलग प्रधानमंत्री होना चाहिए।

इसपर प्रधानमंत्री ने कहा कि देश को बांटने की इसी मानसिकता ने भारत का बहुत बड़ा नुकसान किया है। मत भूलिए, दो-तीन दिन पहले ही नेशनल कॉन्फ्रेंस के एक औऱ नेता ने आतंक के सरपरस्तों के लिए, पाकिस्तान के लिए, जिंदाबाद के नारे लगाए थे।

इसे भी पढ़ें - उमर अब्दुल्ला का विवादित बयान, कहा- 'कश्मीर में अलग प्रधानमंत्री चाहिए'

उन्होंने कहा कि इस बयान के बाद कांग्रेस के सारे बड़े नेता चुप्पी साधकर बैठ गए थे। कांग्रेस की यही मानसिकता है, जो देश विरोधी ताकतों को मजबूत करती है।

DO NOT MISS