General News

लॉकडाउन का वायुसेना ने किया अभिनंदन, ट्वीट की मिग-21 की तस्वीर

Written By Anju Nirwan | Mumbai | Published:

मिग-21 फाइटर जेट की तस्वीर ट्वीट कर वायुसेना (IAF) ने कहा कि '21' से हमने अपनी लड़ाकू क्षमता साबित की अब आपको अपने '21' को सफल बनाना है.


वायुसेना ने कहा, जरूरी है सोशल-डिस्टनसिंग

भारतीय वायुसेना ने अपने ऑफिसियल ट्वीटर एकाउंट से कोरोना वायरस से लड़ने के लिए देशवासियों से सोशल-डिस्टनसिंग अपनाने पर जोर दिया है और कहा कि 21 दिन में कोरोना वायरस की चेन को तोड़ना है. लेकिन इस ट्वीट के साथ वायुसेना ने मिग-21 लड़ाकू विमान का फोटो भी शेयर किया है.


मिग-21 फाइटर जेट की इस तस्वीर पर लिखा है, ''हमने 21 के जरिए अपनी लड़ाकू क्षमता को साबित किया अब 21 दिनों के जरिए आपको साबित करना है."

21 दिन का लॉकडाउन, याद आया मिग-21

पिछले साल बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद भारत और पाकिस्तान की वायुसेनाओं के बीच डॉगफाइट हुई थी उसमें भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन मिग-21 फाटइर जेट पर उड़ान भर रहे थे.  इस डॉगफाइटर के दौरान विंग कमांडर अभिनंदन ने इसी मिग-21 से पाकिस्तानी वायुसेना के आधुनिक अमेरिकी फाइटर जेट एफ-16 को मार गिराया था. तभी से इन मिग-21 जेट्स को 'फाल्कन-सेल्यर्स' का दर्जा मिल गया और पूरी दुनिया में भारतीय वायुसेना की लड़ाकू क्षमताओं की धाक जम गई. यही वजह है कि भारतीय वायुसेना ने 21 दिन के लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए अपने मिग-21 फाइटर जेट का उदाहरण दिया. 


राजनाथ सिंह ने की उच्च स्तरीय बैठक
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरूवार को एक उच्च स्तरीय बैठक कर रक्षा मंत्रालय और सशस्त्र सेनाओं को कोरोना वायरस से लड़ने और अधिक कारगर तरीके से लड़ने पर जोर दिया. इस बैठक में सीडीस जनरल बिपिन रावत, आर्मी चीफ जनरल मनोज मुकुंद नरवणे, एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया और नेवी चीफ एडमिरल करमबीर सिंह शामिल रहे.

सिंह ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए रक्षा मंत्रालय की संपूर्ण तैयारियों की समीक्षा के लिए एक उच्च-स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए ये निर्देश जारी किये। भारत में कोरोना वायरस से अब तक 600 से अधिक लोग संक्रमित हुए है और कम से कम 10 लोगों की मौत हुई है।

कोविड-19 को फैलने से रोकने के प्रयासों के तहत भारत में मंगलवार की मध्य रात्रि से 21 दिन का लॉकडाउन चल रहा है। बैठक में सिंह ने कोरोना वायरस प्रभावित देशों से विदेशियों के साथ-साथ भारतीय नागरिकों को निकालने के लिए सशस्त्र बलों और रक्षा मंत्रालय के विभिन्न विभागों द्वारा निभाई गई सक्रिय भूमिका की प्रशंसा की।

रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘उन्होंने सशस्त्र बलों और अन्य विभागों से अपनी तैयारियों को पूरा करने और विभिन्न स्तरों पर नागरिक प्रशासन को सभी आवश्यक सहायता प्रदान करने का आग्रह किया।’’