Bollywood News

जायरा वसीम पर शिवसेना का हमला, 'एक्टिंग को छोड़ना आपका फैसला है, धर्म से जोड़ने की कोशिश न करें'

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

धर्म को आधार बनाकर अभिनय का क्षेत्र छोड़ने की घोषणा करने वाली राष्ट्रीय पुरस्कार जीतने वाली अदाकारा जायरा वसीम के फैसले पर हर कोई हैरान है। जहां कुछ लोगो उनके इस फैसले की प्रशांसा कर रहे हैं। वहीं कुछ ऐसी भी हैं जिन्होंने एक्टर के इस फैसले पर सवाल उठाए हैं।  

कांग्रेस छोड़कर शिवसेना में शामिल हुईं प्रियंका चतुर्वेदी ने जायरा के फैसले पर ट्विटर पर लंबी प्रतिक्रिया दी। 

उन्होंने लिखा कि, 'आप अपनी आस्था का पालन कर सकते हैं अगर यह आपको आकर्षित कर रही है, लेकिन कृप्या अपने करियर का फैसला धर्म को आधार बनाकर न करें। यह आपके धर्म को असहिष्णु बताता है जबकि हकीकत में ऐसा नहीं है। यह उनके धर्म (जायरा वसीम) के लिए भी एक बड़ा प्रतिगामी कदम है और इस गलत धारणा को और पुष्ट करता है कि इस्लाम में सहिष्णुता की जगह नहीं है।' 

दरअसल, 18 वर्षीय जायरा ने कहा है कि वह अपने काम से खुश नहीं हैं क्योंकि यह उनकी आस्था और धर्म के रास्ते में आ रहा है। 

वहीं बीजेपी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने भी एक्टर के फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि 'धर्म के आधार पर ऐक्टिंग छोड़ने का फैसला दबाव में लिया हुआ फैसला लग रहा है। वह लगातार कट्टरपंथी समूहों के निशाने पर भी थीं।'

पूर्व मुख्यमंत्री ने किया समर्थन 

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, “जायरा वसीम की पसंद पर सवाल उठाने वाले हम कौन होते हैं? वह जैसे चाहें वैसे अपनी जिंदगी जिएं। मैं बस उन्हें शुभकामना दे सकता हूं और कामना करता हूं कि वह जो करें उससे उन्हें खुशी मिले।” 

भारतीय प्रशासनिक सेवा को छोड़ कर राजनीति के क्षेत्र में उतरे शाह फैसल ने कहा कि वह जायरा के फैसले का सम्मान करते हैं और उन्हें शुभकामना दी।

फैसल ने ट्वीट किया, “मैंने जायरा वसीम के अदाकारा बनने के फैसले का हमेशा सम्मान किया। संभवत: किसी अन्य कश्मीरी ने इतनी कम उम्र में इस तरह का लोकप्रिय दर्जा, ऐसी सफलता और नाम नहीं हासिल किया था। और आज जब उन्होंने फिल्म जगत छोड़ दिया, मेरे पास उनके फैसले का सम्मान करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। उन्हें शुभकामनाएं।” 

DO NOT MISS