US News

फोर्ब्स की अमेरिकी टेक कंपनियों की 50 दिग्गज महिलाओं की लिस्ट में चार भारतीय महिलाएं शामिल

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

फोर्ब्स ने अमेरिकी टेक कंपनियों की 50 दिग्गज महिलाओं की एक सूची जारी की है. इस लिस्ट में चार महिलाएं भारतीय मूल की शामिल की गई हैं. इस सूची में आईबीएम की मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिनी रोमेटी और नेटफ्लिक्स की कार्यकारी एनी एरोन शामिल हैं.

लिस्ट में सिस्को की पूर्व चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर पद्मश्री वॉरियर, उबर की सीनियर डायरेक्टर कोमल मंगतानी, कॉन्फ्लुएंट की को-फाउंडक और चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर नेहा नारखेड़े, आइडेंटिटी मैनेजमेंट कंपनी ड्रॉब्रिज की संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी कामाक्षी शिवराम कृष्णन शामिल हैं.

फोर्ब्स ने ‘अमेरिका की 2018 में प्रौद्योगिकी क्षेत्र की शीर्ष 50 महिलाओं’ की सूची में कहा कि महिलाएं भविष्य का इंतजार नहीं करती हैं. टेक्नोलॉजी क्षेत्र में 2018 की शीर्ष 50 महिलाओं की शुरुआती सूची में तीन पीढ़ियों का प्रतिनिधित्व दिखता है जो एक दशक से भी अधिक समय से दुनियाभर में तकनीक के क्षेत्र में आगे हैं.

पद्मश्री वॉरियर..

पद्मश्री 2015 से अमेरिका में चीन की कार कंपनी नियो की सीईओ (यूएस डिवीजन) हैं. वॉरियर ने मोटोरोला और सिस्को दोनों में अहम भूमिका निभाई है. वो 17 दिसंबर को नियो की सीईओ (यूएस डिवीजन) से इस्तीफा देंगी. वो माइक्रोसॉफ्ट के बोर्ड में भी शामिल हैं. आंध्रप्रदेश के विजयवाड़ा में जन्मीं पद्मश्री दिल्ली आईआईटी की पासआउट हैं. वॉरियर 2015 में फोर्ब्स की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं की लिस्ट में 84वीं रैंक पर थीं.


कोमल मंगतानी..

कोमल उबर की सीनियर डायरेक्टर हैं. वो बिजनेस इंटेलीजेंस सेक्शन की हेड भी हैं. कोमल उबर के महिला एनजीओ के बोर्ड में भी शामिल हैं. उन्होंने गुजरात के धर्मसिंह देसाई इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से पढ़ाई की है.


नेहा नरखेड़े..

नेहा लिंक्डइन में सॉफ्टवेयर इंजीनियर की नौकरी करते हुए कॉफ्लुएंट के लिए अपाचे काफ्का सॉफ्टवेयर तैयार करने में मदद की थी. ये डेटा प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर कॉफ्लुएंट का बिजनेस बढ़ाने में काफी मददगार साबित हुआ. नेहा ने पुणे यूनिवर्सिटी अपनी पढ़ाई की है.

 

कामाक्षी शिवरामकृष्णन..

कामाक्षी फिलहाल आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस से जुड़ी कंपनी ड्रॉब्रिज की सीईओ और फाउंडर हैं. उन्होंने 2010 में कंपनी बनाई थी. ड्रॉब्रिज यह ट्रैक करती है कि लोग कौन-सी डिवाइस यूज कर रहे हैं. कंपनी में अब तक 6.87 करोड़ डॉलर का बाहरी निवेश हो चुका है. ड्रॉब्रिज शुरू करने से पहले कामाक्षी मोबाइल एड प्लेटफॉर्म एडमोब में डेटा साइंटिस्ट थीं. उन्होंने भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई से पढ़ाई की थी.

(इनपुट : भाषा)

DO NOT MISS