UK News

UK की अदालत से माल्या को झटका, बहुत जल्द ही भारत लाया जाएगा भगोड़ा माल्या

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या को ब्रिटेन की कोर्ट ने झटका दिया है। कोर्ट ने माल्या के प्रत्यर्पण रोकने वाली अर्जी खारिज कर दी गई है। ऐसे में अब उसके भारत आने का समय और नजदीक हो गया है। माल्या को अब लगने लगा है कि उसका जेल जाना तय है। इसलिए, पिछले दिनों उसके वकीलों ने कोर्ट में कहा था कि मेरे मुवक्किल भारतीय बैंकों को संतुष्ट करने के लिए शानो शौकत की जिंदगी छोड़ना चाहते हैं। 


बता दें भगोड़े शारब कारोबारी के पास एक बार और रॉयल कोर्ट ऑफ जस्टिस के पास प्रत्यर्पण रोकने के लिए में याचिका दायर करने का मौका है। इसके लिए उनके पास 14 दिनों का वक्त है। 

इससे पहले माल्या ने अपने प्रत्यर्पण को ब्रिटिश गृह मंत्री साजिद जाविद द्वारा दी गई मंजूरी के खिलाफ लंदन के हाईकोर्ट में अपील की थी। बता दें कि चीफ मजिस्ट्रेट एम्मा अर्बुथनॉट ने माल्या के प्रत्यर्पण को मंजूरी देते हुए अपने फैसले में कहा था कि उनके खिलाफ कर्ज धोखाधड़ी के पर्याप्त सुबूत हैं और पहली नजर में यह पाया गया कि माल्या बैंकों से धोखाधड़ी की साजिश में शामिल थे। 


भगोड़े माल्या पर भारतीय बैंकों के करीब 1.14 अरब पाउंड बकाया हैं।  कोर्ट के आदेश के अनुसार हर सप्ताह वह 18,325.31 पाउंड खर्च कर सकता है ।  पिछले सप्ताह ब्रिटेन की कोर्ट में सुनवाई के दौरान माल्या ने इस राशि को घटाकर 29,500 पाउंड मासिक करने की पेशकश की थी । 

इससे पहले शराब कारोबारी विजय माल्या ने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल में एक साक्षात्कार में उनकी (माल्या) 14,000 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति जब्त होने की बात स्वीकार की है।

माल्या ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी का यह बयान उनसे पूरी वसूली कर लिये जाने और भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार द्वारा उनका ‘पोस्टर बॉय’ की तरह इस्तेमाल किये जाने के उनके दावे की पुष्टि करता है।

माल्या, 62 वर्ष, ने ट्विटर पर जारी बयान में कहा कि प्रधानमंत्री ने खुद यह स्वीकार किया कि वसूली गई संपत्ति उसकी (माल्या की) 9,000 करोड़ रुपये की कथित देनदारी से अधिक है। माल्या पर बैंकों के साथ धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप हैं। वह ब्रिटेन में है और भारतीय एजेंसियों की ओर से प्रत्यर्पण मामले का सामना कर रहे हैं।

DO NOT MISS