During the COVID-19 lockdown. (Photo | AP)
During the COVID-19 lockdown. (Photo | AP)

UK News

इंग्लैंड में लॉकडाउन में रियायतें मिलनी शुरू, साइकिल से या पैदल कार्य स्थल तक जाने की सलाह

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

इंग्लैंड में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लगाए लॉकडाउन में बुधवार से रियायतें मिलनी शुरू हो गईं और घर से काम करने में असमर्थ कामगार काम पर लौटे लेकिन उन्हें जितना संभव हो सके सार्वजनिक वाहन में यात्रा करने से बचने और साइकिल से, पैदल या खुद से गाड़ी चलाकर जाने की सलाह दी गई है।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन द्वारा इस हफ्ते संसद में पेश की गई चरणबद्ध योजना के तहत लोग अब बाहर अधिक समय व्यतीत कर सकते हैं और अपने घर के बाहर एक व्यक्ति से मिल सकते हैं। जिन खेलों में शरीर से दूरी बरतना संभव है उन्हें अनुमति दी गई है जैसे कि गोल्फ और लोगों को चेहरे को ढंककर रखने की सलाह दी गई है।

बहरहाल, ब्रिटेन सरकार और स्कॉटलैंड, वेल्स और उत्तर आयरलैंड प्रशासनों के बीच लॉकडाउन नियमों को लेकर कुछ मतभेद हैं। जॉनसन ने कहा, ‘‘सबसे खराब परिणाम इस विषाणु के फिर से लौटने और काबू से बाहर होने का है, जिससे लोगों की मौत हो सकती है, वहीं दूसरी ओर कड़ी पाबंदियों को फिर से लागू करने से अर्थव्यवस्था को खमियाजा उठाना पड़ सकता है। हमें चौकन्ना रहना होगा, विषाणु को नियंत्रित करना होगा और ऐसा करते हुए जिंदगियों को बचाना होगा।’’

हालांकि, स्कॉटलैंड की नेता निकोला स्टर्जन ने लोगों को इतनी जल्दी काम पर लौटने के लिए विवश किए जाने को लेकर चिंता जताई। इससे पहले जॉनसन ने कहा था कि कुछ कार्यस्थल कोविड-19 पर नए दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए बुधवार से अपने कर्मचारियों को लौटने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

वेल्स के नेता मार्क ड्रेकफोर्ड का भी ऐसा ही रुख है। इंग्लैंड में नियोक्ताओं को अपने कार्यस्थलों को सुरक्षित रखने के लिए कई दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। जो भी नियमों का उल्लंघन करता पाया गया उसे आपराधिक मुकदमे का सामना करना पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका में पाबंदियां तेजी से हटाई गईं तो अधिक मौतें, आर्थिक नुकसान देखने को मिल सकता है : फॉसी

इसे भी पढ़ें: कोविड-19: अमेरिकी सीनेटरों ने चीन पर प्रतिबंध लगाने के लिए संसद में पेश किया विधेयक

इसे भी पढ़ें: कोरोना: अमेरिकी सीनेटरों ने चीन पर प्रतिबंध लगाने के लिए संसद में पेश किया विधेयक