Rest Of The World News

फ्रांस: प्राइमरी स्कूलों में छोटे बच्चों ने किया सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, लोगों ने की आलोचना

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

लंबे समय से कोरोना वायरस संक्रमण से जूझने के बाद कुछ देशों में हालात सुधरते नजर आ रहे हैं। कई जगहों पर लॉकडाउन में सतर्कता के साथ कुछ रियायतें दी जा रही हैं। फ्रांस में भी लोगों की ज़िन्दगी धीरे धीरे सामान्य होती जा रही है। 

देश में लोग अपने काम पर वापस लौट रहे हैं और कई बड़े हिस्सों में स्कूल भी खोल दिए गए हैं। लोगों को  8 हफ्ते के लॉकडाउन के बाद ये राहत दी गई है। लाखों लोग अपने काम पर जाने लगे हैं और बच्चों के लिए स्कूलों को खोल दिया गया है। सोशल मीडिया पर जो तस्वीरें सामने आई हैं, उसमें बच्चे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते नजर आ रहे हैं।

उनके टीचर्स ये सुनिश्चित कर रहे हैं कि सभी बच्चे शारीरिक दूरी बनाते हुए ही क्लास में बैठे। सरकार के आदेश के अनुसार, हर क्लास में केवल 15 बच्चे ही बैठेंगे। साथ ही सभी बच्चों को कई बार हाथ धोने की भी सलाह दी गई है। सरकार ने कहा है कि स्कूल में बच्चों की उपस्थिति अनिवार्य नहीं होगी।

 बच्चे क्लासरूम में हो या बाहर प्लेग्राउंड में, वे हर जगह सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं। टीचर्स ने चौक और पेंट की मदद से कई निशान भी बनाए हैं ताकि बच्चें उन पर बैठ सकें। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये तस्वीरें उत्तरी फ्रांस के एक शहर टूर्क्वाँ की हैं जो बेल्जियम की सीमा पर स्थित है। कई सोशल मीडिया यूजर्स ने तस्वीरों को साझा करते हुए इस कदम को निराशाजनक बताया है। एक यूजर ने लिखा कि बच्चों को इतनी कम उम्र में अलगाव में धकेलने से उनके मानसिक स्वास्थ्य पर गलत असर पड़ेगा। वही अन्य ने लिखा है कि अगर सरकार को सोशल डिस्टेंसिंग की इतनी परवाह है तो उन्हें प्राइमरी स्कूल ही नहीं खोलने चाहिए थे।

 

साक्षी बंसल की रिपोर्ट