Pakistan News

भारत की सख्ती के बाद दुनिया को दिखाने के लिए पाकिस्तान ने हाफिज सईद के आतंकी संगठन जमात-उद-दावा पर लगाया बैन

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

पुलवामा के आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ रुख अपनाते हुए भारत सरकार ने अब पाक को दिए जा रहे ब्यास , रावी और सतलुज नदी के पानी को रोकने का फैसला किया है । भारत की सख्ती बाद पाकिस्तान सरकार में खलबली मच गई । आनन फानन में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक की। इस बैठक में दुनिया को दिखाने के लिए इमरान ने आतंकी संगठन जमात-उत-दावा पर बैन लगाया है । इसके साथ ही फलाह-ए-इंसानियत पर भी बैन लगाया गया है. इन दोनों आतंकवादी संगठन का संबंध मुंबई हमले के आरोपी हाफ़िज सईद से है।

बैठक में इन दोनों ही संगठनों को गैरकानूनी करार दिया गया है।

आतंकी फंडिग पर नजर रखने वाली एजेंसी फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डालने के लिए फ्रांस में मीटिंग कर रहा है। ग्रे लिस्ट में शामिल होने से बचने के लिए इमरान खान ने दुनिया को दिखाने के मुंबई हमले के मास्टर माइंड हाफ़िज सईद के आतंकी संगठन जमात-उद-दावा और  फलाह-ए-इंसानियत पर पाबंदी लगा दी हैं।

इस फैसले के बाद रिपब्लिक भारत के कंसल्टिंग ऐडिटर  रिटायर्ड मेजर गौरव आर्या ने कहा कि इमरान खान ने यह फैसला दुनिया को दिखाने के लिए लिया है। उन्होंने कहा मुंबई हमले के मास्टर माइंड हाफ़िज सईद का पाकिस्तानी आर्मी के अस्पताल में बैठा कर इलाज चल रहा है। हाउस अरेस्ट में भी हाफिज पांइव स्टार होटल की तरह सेवा मुहिया कराई जाती है।

बता दें केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने गुरुवार को ऐलान किया कि तीनों नदियों पर बने प्रॉजेक्ट्स की मदद से पाक को दिए जा रहे पानी को अब पंजाब और जम्मू-कश्मीर की नदियों में प्रवाहित किया जाएगा। 

उन्होंने आगे कहा कि इसके लिए जम्मू-कश्मीर के शाहपुर-कांडी में रावी नदी पर एक प्रॉजेक्ट के निर्माण कार्य की शुरुआत हो चुकी है। इसके अलावा उझ प्रोजेक्ट की मदद से जम्मू-कश्मीर में रावी नदी का पानी स्टोर किया जाएगा और इस डैम का सरप्लस पानी अन्य बेसिन राज्यों में प्रवाहित किया जाएगा। 

केंद्र सरकार ने यह फैसला ऐसा वक्त में लिया है जब पुलवामा हमले के बाद देश के लोग भारत सरकार से पाकिस्तान को सबक सिखाने की मांग कर रहे हैं ।


 

DO NOT MISS