PC - Twitter/ @MangteC
PC - Twitter/ @MangteC

Other Sports

भारत की स्‍टार महिला बॉक्‍सर मैरीकॉम ने रचा इतिहास, महिला विश्व चैंपियनशिप में जीता गोल्ड

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

भारत की स्‍टार महिला बॉक्‍सर एमसी मैरी कॉम ने शनिवार को इतिहास रच दिया. तीन बच्चों की मां मैरीकॉम ने महिला विश्व चैंपियनशिप के फाइनल (48 किग्रा ) में यूक्रेन की हाना ओखोता को हाराकर खिताब अपने नाम किया.  इस तरह  से 35 वर्षीय मैरी छह गोल्ड मेडल जीतने वाली दुनिया की पहली मुक्केबाज बन गईं. 

पहले राउंड  से मैरी कॉम हावी रहते हुए हाना ओखोता पर मुक्कों की बरसात कर दी. दूसरे राउंड में ओखोता मेर कॉम पर हावी नजर आईं. तीसरे और निर्णायक राउंड में दोनों खिलाड़ी बराबर नजर आए. लेकिन मैरी कॉम ने अपने दमदार परफार्मेंस से खिताब अपने नाम कर लिया. 


मेरीकॉम ने चैंपियनशिप के 10 वें संस्करण में स्वर्णिम सफलता हासिल की . मेरी ने केडी जाधव हॉल में 48 किलोग्राम भार वर्ग के फाइनल में ओखोटा को 5-0 से मात देकर विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में सबसे ज्यादा छह स्वर्ण पदकों पर कब्जा जमाने की अभूतपूर्व उपलब्धि हासिल की. 

बतां दें 35 वर्षीय बॉक्सर मेरी कॉम महिला बॉक्सिंग की दुनिया की कामयाब बॉक्सर्स में शामिल हैं. मेरी कॉम ने इस टूर्नमेंट में पहले छह गोल्ड और एक सिल्वर मेडल जीता है. 

यह भी पढ़े - इस खूबसूरत लड़की से प्यार करते हैं क्रिकेटर संजू सैमसन, फेसबुक पर किया अपनी शादी का ऐलान . . .


वर्ल्ड चैंपियनशिप से पहले मेरी कॉम कुल मेडल के मामले में आयरलैंड की दिग्गज बॉक्सर कैटी टेलर ( पांच गोल्ड , एक ब्रॉन्ज ) के बराबर थी. पर शनिवार को महिला विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप जितने के बाद मेरीकॉम का यह 7वां (6 गोल्ड+ एक सिल्वर) पदक है. सर्वाधिक मेडल जीतने का रिकॉर्ड भी अब मेरीकॉम के नाम है. केटी टेलर (5 गोल्ड+ 1 ब्रॉन्ज) अब पिछड़ चुकी हैं. 

मणिपुरी स्टार मेरीकॉम ने आखिरी बार 2010 में 48 किलोग्राम भार वर्ग में वर्ल्ड चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीता था.  इससे पहले उन्होंने 2010 में ब्रिजटाउन में इसी भारवर्ग में स्वर्ण पदक हासिल किया था. 2006 में दिल्ली में आयोजित विश्व चैंपियनशिप में भी उन्होंने गोल्ड मेडल जीता था.

यह भी पढ़े -  मिताली राज को बाहर रखने पर हरमनप्रीत को कोई खेद नहीं, कहा- 'टीम के हित में लिया था फैसला' . . .