Credit- PTI
Credit- PTI

Hockey News

सरदार सिंह ने इंटरनैशनल हॉकी को कहा अलविदा, बोले- चाहता था 2020 विश्वकप खेलूं, लेकिन...

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

भारतीय  हॉकी के दिग्गज खिलाड़ी और पूर्व कप्तान सरदार सिंह ने आखिरकार को इंटरनैशनल हॉकी को अलविदा कह दिया. उनका यह फैसला ऐसे मौके पर आया है जब हॉकी इंडिया ने एशियाई चैंपियंस ट्ऱॉफी और विश्व कप के लिए घोषित 25 सदस्यीय कोर ग्रुप का ऐलान किया था और इस कोर ग्रुप में सरदार सिंह को जगह नहीं मिली. 

समाचार एजेंसी के अनुसार 32 वर्षीय मिडफिडर ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि युवाओं को ज्यादा खेलने का मौका मिलना चाहिए.  मैंने  इंटरनैशनल हॉकी  को अलविदा कह दिया है. मैंने अपने करियर में बहुत हॉकी खेली है और अब इसे अलविदा कहने का वक्त आ गया.

यह भी पढ़ें- सेरेना विलियम्स के 'नस्लभेदी' कार्टून पर बरपा हंगामा, कार्टूनिस्ट नाइट के बचाव में उतरा ऑस्ट्रेलियाई अखबार...

उन्होंने आगे संन्यास के फैसले को लेकर स्पष्ट करते हुए कहा कि मैंने यह फैसला अपने परिवार और इंडिया हॉकी के साथ विचार विमर्श करके लिया है. क्योंकि मुझे ऐसा प्रतीत होता कि अब हॉकी के अलावा बाकि चीजों को भी देखने का समय आ गया है. 

हालांकि जब सरदार से यह सवाल कि गया कि एशियाई चैंपियंस ट्ऱॉफी और विश्व कप के लिए घोषित 25 सदस्यीय कोर ग्रुप का ऐलान पर उन्होंने यह प्रतिक्रिया दी है? तो उन्होंने कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया. लेकिन उन्होंने 2020 का हॉकी विश्वकप खेलने की इच्छा जाहिर की. हालांकि वो अपने संन्यास का अधिाकरिक ऐलान शुक्रवार को संवादाता सम्मेलन में करेंगे. 

यह भी पढ़ें- जापान ओपन में बड़ा उलटफेर, सिंधू और प्रणय हारे, श्रीकांत जापान ओपन के क्वार्टर फाइनल में हुई धमाकेदार एंट्री...

अगर सरदार के हॉकी करियर की बात करें तो उन्होंने एशिया खेलों में कांस्य पदक और चैंपियंस ट्रॉफी में रजत पदक हासिल करने वाली टीम का हिस्सा रहे हैं. हालांकि दोनों ही टूर्नामेंट में सरदार ने अपनी प्रतिभा के अनुसार प्रदर्शन नहीं कर पाए थे. 

बता दें, सरदार ने  307 अंतरराष्ट्रीय मैचों खेले हैं. इसी दौरान उन्होंने 19 गोल किए. वह साल 2008 से 2016 तक भारतीय टीम के कप्तान भी रहे. जिसके बाद उनकी जगह टीम का कप्तान पी आर जोशी को बनाया गया. उन्होंने अपने अंतरराष्ट्रिय करियर की शुरुआत पाकिस्तान के खिलाफ की थी.