Photo: PTI
Photo: PTI

Cricket News

विश्व कप में ब्रह्मास्त्र साबित हो सकते हैं ये स्पिन गेंदबाज, लेकिन वेस्टइंडीज को भुगतान पड़ सकता है खामियाजा

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

विश्व कप में सर्वाधिक विकेट लेने वाले शीर्ष दस गेंदबाजों की सूची में कोई लेग स्पिनर स्पिनर शामिल नहीं हैं लेकिन 30 मई से ब्रिटेन में शुरू होने वाला क्रिकेट महाकुंभ इस मामले में अपवाद हो सकता है क्योंकि इस बार कलाई के स्पिनर अपनी विशेष छाप छोड़ने के लिये तैयार हैं।

विश्व कप में भाग ले रही दस टीमों में से केवल वेस्टइंडीज ही ऐसी टीम है जिसके पास कोई लेग स्पिनर नहीं है जबकि भारत जैसी कुछ ऐसी टीमें हैं जो कलाईयों के स्पिनरों पर अधिक निर्भर हैं। इसका एक कारण यह भी है कि पिछले विश्व कप के बाद चार साल में सर्वाधिक विकेट लेने वाले स्पिनरों की सूची में कलाई के स्पिनरों का दबदबा है। इन चार वर्षों में सर्वाधिक विकेट लेने वाले शीर्ष दस स्पिनरों में सात गेंदबाज कलाई के स्पिनर हैं।

पिछले चार वर्षों में इंग्लैंड के लेग स्पिनर आदिल राशिद (83 मैचों में 127 विकेट) ने सर्वाधिक विकेट लिये हैं। उनके बाद अफगानिस्तान के राशिद खान (58 मैचों में 123 विकेट), दक्षिण अफ्रीका के इमरान ताहिर (60 मैचों में 92 विकेट) और भारत के कुलदीप यादव (44 मैचों में 87 विकेट) का नंबर आता है। ये सभी कलाई के स्पिनर हैं।

भारत ने तीन विशेषज्ञ स्पिनर अपनी टीम में चुने हैं जिनमें कुलदीप और युजवेंद्र चहल कलाई के स्पिनर हैं। कुलदीप चाइनामैन गेंदबाज हैं। रविंद्र जडेजा बायें हाथ के मंझे हुए स्पिनर हैं लेकिन ऑफ स्पिन विभाग में कप्तान विराट कोहली को कामचलाऊ गेंदबाज केदार जाधव पर निर्भर रहना होगा।

मेजबान इंग्लैंड आदिल राशिद पर काफी निर्भर हैं। उसकी टीम में जो डेनली भी हैं जो लेग स्पिन कर लेते हैं। आफ स्पिनर मोईन अली इंग्लैंड की टीम में शामिल अन्य स्पिनर हैं। आस्ट्रेलिया के स्पिन विभाग का जिम्मा आफ स्पिनर नाथन लियोन और लेग स्पिनर एडम जंपा पर होगा। ग्लेन मैक्सवेल भी अपनी कामचलाऊ ऑफ स्पिन से कुछ ओवर कर सकते हैं।

विशेषज्ञों की राय में भारत, इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में पहुंचने के प्रबल दावेदार हैं। उनकी निगाह में न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और पाकिस्तान में से कोई चौथी टीम के रूप में अंतिम चार में पहुंच सकता है।

न्यूजीलैंड के स्पिन विभाग में ईश सोढ़ी लेग स्पिनर हैं जबकि मिशेल सैंटनर बायें हाथ के अच्छे स्पिनर हैं। दक्षिण अफ्रीका की गेंदबाजी स्पिन विभाग में इमरान ताहिर के इर्द गिर्द घूमेगी। तबरेज शम्सी भी चाइनामैन यानि बायें हाथ के कलाई के गेंदबाज हैं। पाकिस्तान के पास शादाब खान के रूप में अच्छा लेग स्पिनर है।

श्रीलंका के दो मुख्य स्पिनर जीवन मेंडिस और जैफ्री वंडारसे लेग स्पिनर हैं। अफगानिस्तान की गेंदबाजी का दारोमदार काफी हद तक लेग स्पिनर राशिद खान पर टिका रहेगा। उसकी टीम में रहमत शाह और शमीउल्लाह शिनवारी भी लेग स्पिन कर लेते हैं।

बायें हाथ के स्पिनरों में जडेजा, सैंटनर, बांगलादेश के शाकिब उल हसन ही बड़े नाम हैं जबकि पाकिस्तान के इमाद वसीम, श्रीलंका के मिलिंदा श्रीवर्धने और वेस्टइंडीज के फैबियन एलन बायें हाथ के अन्य स्पिनर हैं जो विश्व कप में खेलते हुए दिखेंगे।

बांग्लादेश के पास शब्बीर रहमान लेग स्पिनर हैं लेकिन वह कामचलाऊ गेंदबाज हैं। बांग्लादेश स्पिन विभाग में शाकिब के अलावा आफ स्पिनर महमुदुल्लाह, मेहदी हसन और मोसादिक हुसैन पर निर्भर रहेगा।

आफ स्पिनरों की बात करें तो अफगानिस्तान के पास भी मोहम्मद नबी और मुजीब उर रहमान के रूप में दो उपयोगी स्पिनर हैं। वेस्टइंडीज के पास कोई लेग स्पिनर नहीं है लेकिन और ऐसे में आफ स्पिनर एशले नर्स और बायें हाथ के स्पिनर एलन की भूमिका महत्वपूर्ण हो जाएगी। पाकिस्तान में मोहम्मद हफीज और श्रीलंका में धनंजय डिसिल्वा आफ स्पिनर की जिम्मेदारी निभाएंगे।

DO NOT MISS