Cricket News

आतंकवाद प्रभावित दक्षिण कश्मीर में सेना के साथ जुड़े धोनी, निभाएंगे ये बड़ी जिम्मेदारी

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

क्षेत्रीय सेना में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल महेंद्र सिंह धोनी आतंकवाद प्रभावित दक्षिण कश्मीर में बुधवार को सेना के साथ जुड़ गए जहां वह अन्य सैनिकों की तरह गश्त, गार्ड ड्यूटी और बाकी काम करेंगे । भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान 15 अगस्त तक 106 टीए बटालियन (पैरा) के साथ रहेंगे और सैनिकों की तरह काम करेंगे । 

सेना के अधिकारियों ने कहा ,‘‘ लेफ्टिनेंट कर्नल धोनी आज यहां पहुंच गए और यूनिट से जुड़ गए ।’’  यूनिट आतंकवाद प्रभावित दक्षिण कश्मीर में विक्टर फोर्स के साथ जुड़ेंगे ।

विश्व कप विजेता कप्तान 38 बरस के धोनी के सेना को दो सप्ताह सेवायें देने के अनुरोध को पिछले सप्ताह सेना मुख्यालय ने मंजूरी दी थी । धोनी को 2011 में लेफ्टिनेंट कर्नल की मानद रैंक मिली थी । वह क्वालीफाइड पैराट्रूपर भी है और पांच पैराशूट ट्रेनिंग जंप कर चुके हैं ।

यह भी पढ़ें - महेंद्र सिंह धोनी की आर्मी ट्रेनिंग होने वाली है शुरू, इस बटालियन के साथ करेंगे प्रशिक्षण

धोनी को भारत का तीसरा उच्चतम नागरिक सम्मान पद्म भूषण मिल चुका है । 

विश्व कप में भारतीय टीम के सेमीफाइनल से बाहर होने के बाद धोनी के संन्यास की अटकलें लगाई जा रही थी । धोनी ने दो महीने पैराशूट रेजिमेंट को देने के लिये बोर्ड से ब्रेक मांगा था । वह भारतीय टीम के वेस्टइंडीज दौरे का हिस्सा नहीं है । बता दें धोनी आर्मी ट्रेनिंग की प्लानिंग लंबे समय से कर रहे थे। जैसा की सभी जानते है कि महेंद्र सिंह धोनी को देश की सेना से काफी लगाव है जिसके चलते उन्होंने क्रिकेट से आराम लेने और अपनी बटालियन के साथ दो माह की ट्रेनिंग लेने का फैसला किया

यह भी पढ़ें - धोनी का बड़ा फैसला, 'वेस्ट इंडीज दौरे से किया किनारा, सैनिकों के साथ बिताएंगे अगले 2 महीने'

गौरतलब है कि 38 साल के धोनी को पहली ही उनकी टेरिटोरियल आर्मी यूनिट पैराशूट रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट की उपाधि से 2011 में नवाजा जा चुका है। उस वक्त धोने के साथ अभिनव बिंद्र और दीपक राव भी शामिल हुए थे।

महेंद्र सिंह धोनी ने साल 2015 में आगरा स्थित आर्मी ट्रेनिंग सेंटर में एयरक्राफ्ट से पैराशूट द्वारा 5 बार छलांग लागकर ट्रेनिंग भी पूरी की थी।

(इनपुट- भाषा)

DO NOT MISS