Cricket News

इस समय IPL जरूरी नहीं, देश जरूरी है: गौतम गंभीर

Written By amit bhardwaj | Mumbai | Published:

गौतम गंभीर ने रिपब्लिक मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला बिल्कुल सही है, सभी मुख्यमंत्रियों ने भी प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लॉकडाउन को बढ़ाने की अपील की थी। अगर हल्की सी भी लापरवाही हुई तो काफी स्तिथि खराब हो सकती है और जो 21 दिन में हम लॉकडाउन में रहें है उसका कोई भी फायदा हमें नहीं होगा। ये एक सकारात्मक कदम है और हम सब अपने घरों में रहकर कोरोना वायरस के खिलाफ इस लड़ाई को जीत सकें।' 

'मिलकर जीतेंगे कोरोना से जंग'

गौतम ने कहा कि 'मैंने एक ट्वीट किया है जिसमें दिल्ली सरकार को भी इशारा किया है कि हम यह लड़ाई प्रोएक्टिव रह कर ही जीत सकते है रिएक्टिव रह कर नहीं और आपको इस लड़ाई में एक कदम आगे रहना होगा। आज जब हमें पता चला की 2 डॉक्टर कोरोना वायरस पॉजिटिव हैं तो हमने 1000 पी.पी.ई किट्स आर.एम.एल अस्पताल में भिजवाई है। कोरोना की लड़ाई में सबसे ज़्यादा ज़रूरी डॉक्टर और नर्से है। जितनी ज़्यादा से ज़्यादा हम उनको सुविधाएं देंगे उतना ही अच्छा है और वो हमारे लिए एक बेहतर लड़ाई लड़ सकेंगे इसलिए मैंने किट्स भिजवाई हैं।' 

'अभी दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि हमने डेढ़ लाख किट्स का आर्डर दिया है तो इसपर में यही कहूंगा दिल्ली के मुख्यमंत्री को की हम यह लड़ाई प्रोएक्टिव रह कर ही जीत सकते हैं। हमें पहले से ही तैयार रहना जरूरी है और मैं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को यही कहना चाहूंगा कि जितनी किट्स आपने आर्डर की है उन्हें जल्दी मंगवाइये क्योंकि जब तक हम अपने कोरोना योद्धा डॉक्टरों और नर्सों को हथियार नहीं देंगे तब तक वो हमारे लिए कैसे इस ड्रैगन कोरोना से लड़ेंगे और जीतेंगे।' 'डॉक्टरों से बदसलूकी करने वालों पर हो कार्रवाई'

गौतम ने आगे कहा, 'जिस तरह डॉक्टर और नर्सों के साथ अभद्रता और बदतमीज़ी की खबरें आई चाहे वो तब्लीगी जमात के लोग थे चाहे कोई ओर उनसे बस यही कहना चाहता हूं कि ये हरकत बर्दशात करने वाली नहीं है। जो डॉक्टर और नर्से हैं वो हम सभी के लिए फ्रंट फुट पर आगे रह कर लड़ाई लड़ रहे है उनके साथ किसी भी तरह की बदतमीज़ी और खराब व्यहवार करने वाले के खिलाफ कड़ी से कड़ी करवाई होनी चाहिए।'
लोगों की करें मदद

गौतम ने कहा, 'मैं सभी केंद्रीय और राज्य सरकारों से अनुरोध करता हूँ कि जितने भी लोग इस समय ज़रूरतमंद है उनकी ज़्यादा से ज़्यादा मदद की जाए। राशन, दूध, पानी जैसी ज़रूरी चीजें वक्त-वक्त पर उन्हें मुहैया करवाई जाएं और दिल्ली में गरीब आदमी को ज़्यादा तकलीफ न हो इसके लिए हमारे सभी सांसद भी यही कर रहें है की अपने-अपने इलाके में राशन और खाना दोनो पहुंचा रहे हैं। मैं भी इस कार्य में लगा हूं अपनी संस्था के माध्यम से हम राशन, खाना लोगों तक भिजवा रहें है और जहां तक पी.पी.ई किट्स और मास्क की बात है अलग-अलग अस्पतालों में समय-समय पर हमारे द्वारा सभी डॉक्टरों और नर्सों को पहुँचाया जा रहा है लेकिन अभी बहुत काम है करने को अकेला व्यक्ति यह कार्य पूरा नहीं कर सकता सबको मिलकर काम करना होगा और जितना होगा।

गंभीर बोले, 'मैं केवल राजनेताओं, मंत्रियों, सांसद और विधायकों से नहीं बल्कि सबसे यह गुज़ारिश करूंगा की आप छोटी बड़ी जैसी भी मदद कर सकते हैं वो करें थोड़ा-थोड़ा करके ही हम सब यह लड़ाई जीत सकतें है। लोग पूछते है कि देश मेरे लिए क्या कर सकता है मैं उन सबको यह कहना चाहूंगा कि आज देश के लिए कुछ करें और कोरोना को हराएं।' 

पुलिस पर हमला शर्मनाक 

गौतम गंभीर ने कहा कि पटियाला में पुलिस अधिकारी के साथ जो हुआ वो बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है और मैं इसकी पूर्ण रूप से निंदा करता हूँ। सबको ये समझना होगा कि चाहे वो पुलिस वाले हो चाहे डॉक्टर और चाहे वो नर्सें हों जो कोई भी व्यक्ति जो अपना घर परिवार छोड़ कर आपको बचाने की कोशिश में लगा हुआ है सड़कों पर दिन रात ड्यूटी कर रहा है उसके साथ इस तरह का बर्ताव जो भी कोई करता है उसके खिलाफ जल्द से जल्द ठोस करवाई होनी चाहिए और कड़ी सज़ा मिलनी चाहिए। 

IPL के मुद्दे पर क्या बोले गंभीर?

गौतम ने कहा कि 'लोगों की ज़िंदगी ज़्यादा ज़रूरी है, देखिए इस समय लोगों की ज़िंदगी जो खतरे में है उसके मूल्य को समझकर उन्हें बचाने के प्रयास करने चाहिए इस वक्त वो सबसे ज़रूरी है। आईपीएल तो हर साल होता ही है फिर हो जायेगा लेकिन इंसान की ज़िंदगी एक बार गयी तो फिर वापस नहीं लायी जा सकती। आई.पी.एल से ज़्यादा ज़रूरी है कोरोना संक्रमण से चल रही इस लड़ाई को इसको जीतना बहुत ज़्यादा ज़रूरी है। मैं फिर यहीं कहूंगा कि इस वक्त आईपीएल ज़्यादा ज़रूरी नहीं है। इस समय ज़्यादा ज़रूरी है देश को बचाना, देश के लोगों को बचाना और देश को सुरक्षित रखना।'