Cricket News

बड़ा खुलासा : वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में धोनी को सातवें नंबर पर भेजने के पीछे था ये शख्स

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2019 में टीम इंडिया की यात्रा बुधवार को मैनचेस्टर में ओल्ड ट्रैफर्ड में पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 रन की हार के बाद समाप्त हो गई। लेकिन भारत की इस करारी हार को लेकर लगातार मंथन जारी है। 

टीम के सबसे अनुभवी खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी को बैटिंग ऑर्डर में इतने नीचे भेजे जाने को लेकर लगातार सवाल उठ रहे हैं। वो भी उस वक्त जब भारतीय बल्लेबाज पिच पर ठिकने के लिए संघर्ष कर रहे थे तो वहां धोनी को ना भेजे सबको चौंकाने वाला था। 240 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए, भारत चौथे ओवर में 5 रन पर तीन विकेट रोहित शर्मा, कप्तान विराट कोहली और केएल राहुल के रूप में गंवा चुका था।  

जब शीर्ष तीनों बल्लेबाज वापस पवेलियन जा चुके थे, तब भी प्रशंसकों को यह विश्वास था कि एमएस धोनी अजेय रह सकते हैं और भारत के लिए चमत्कार कर सकते हैं। हालांकि, वे निराश थे जब 2011 विश्व कप विजेता कप्तान शुरुआती झटके के बाद बल्लेबाजी करने नहीं आए थे।

हार्दिक पंड्या और दिनेश कार्तिक को धोनी से पहले भेजा गया जबकि शीर्ष क्रम बुरी तरह लड़खड़ा गया था। आखिर में भारत इस मैच में 18 रन से हार गया।  पीटीआई के अनुसार, यह बल्लेबाजी कोच संजय बांगर थे, जिन्होंने धोनी को सांतवे नंबर पर भेजने का फैसला किया। 

बता दें, सीओए कोचिंग स्टाफ और कप्तान विराट कोहली के साथ विश्व कप की समीक्षा बैठक के लिए तैयार है। संजय बांगर का यह फैसला चर्चा का विषय हो सकता है क्योंकि सीओए जानना चाह सकता है कि मुख्य कोच रवि शास्त्री ने इस पर सवाल क्यों नहीं उठाया।

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने एमएस धोनी को नाबाद भेजने के टीम के फैसले को सही ठहराया। मैच के बाद प्रेस वार्ता के दौरान एक रिपोर्टर के सवाल का जवाब देते हुए कोहली ने कहा कि एमएस धोनी को खेल की स्थिति के आधार पर नंबर सात स्लॉट में खेलने के लिए भूमिका दी गई थी।

कोहली ने कहा, "पहले कुछ मैचों के बाद, उन्हें (धोनी) को उस स्थिति में बल्लेबाजी करने के लिए भूमिका दी गई। जब स्थिति खराब होती है, तब धोनी स्थिति को नियंत्रित कर सकते हैं"।