Cricket News

पूर्व कैप्टन गांगुली ने कहा- ''क्रिकेट ही नहीं, PAK के सभी संबंध तोड़ देने चाहिए''

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

रिपब्लिक भारत की मुहिम को पूरे देश का जोरदार समर्थन मिल रहा है, हर कोई पाकिस्तान के साथ क्रिकेट ही नहीं बल्कि हर संबंध और खेल के बहिष्कार की बात कह रहा है, इस बीच पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने भी पुलवामा आतंकी हमले के मद्देनजर बुधवार को पाकिस्तान के साथ सभी खेल रिश्ते तोड़ने की मांग की। 

इस हमले में 40 सीआरपीएफ कर्मियों की मौत हो गई थी। गांगुली ने एक समय टीम इंडिया के अपने साथी रहे हरभजन सिंह का समर्थन करते हुए कहा कि विश्व कप के एक मैच में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलने से भारत की संभावनाओं पर असर नहीं पड़ेगा।

हालांकि गांगुली ने यह नहीं बताया कि भारत का यह विरोध एक मैच के लिए सांकेतिक होना चाहिए या पाकिस्तान के खिलाफ सेमीफाइनल या फाइनल में खेलने की स्थिति में भी भारत को मैदान पर नहीं उतरना चाहिए।

गांगुली ने कहा कि यह 10 टीमों का विश्व कप है और प्रत्येक टीम अन्य टीम के साथ खेलेगी और मुझे लगता है कि अगर भारत विश्व कप में एक मैच नहीं खेलता है तो यह कोई मुद्दा होगा।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद हिंदुस्तान के लोगों में भारी आक्रोश देखने को मिल रहा है। हर कोई ये मांग कर रहा है कि पाकिस्तान को कड़ा सबक सिखाया जाना चाहिए। लेकिन इन सबके बीच रिपब्लिक भारत डंके ती चोट पर ये पूछ रहा है कि वो (पाकिस्तान) खून का खेल खेलें.. तो उनके साथ क्रिकेट का खेल क्यों खेलें?

PAK आतंकवाद को गोद में बिठाए, तो भारत उसके साथ क्रिकेट क्यों खेले?.. वो भारत में मौत का मैदान बनाने की साजिश करे, तो उसके साथ क्रिकेट क्यों? आज रिपब्लिक भारत ये सवाल पूछ रहा है कि क्या ऐसे मुल्क के साथ हम क्रिकेट के विश्व कप में कोई भी मैच सकते हैं...जो  भारत की जमीन पर मासूमों को साथ दिन रात मौत का खेल खेलने की फिराक़ में रहता है।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि आईसीसी के लिए भारत के बिना विश्व कप में जाना काफी मुश्किल होगा। लेकिन आपको यह भी देखना होगा कि क्या भारत में आईसीसी को ऐसी चीज करने से रोकने की ताकत है। लेकिन निजी तौर पर मुझे लगता है कि कड़ा संदेश दिया जाना चाहिए।’’ 

इसे भी पढ़ें - रिपब्लिक भारत की मुहिम: 'पाकिस्तान के साथ क्रिकेट का हो बहिष्कार'

गांगुली ने कहा कि भारत को पड़ोसी देश से सभी संबंध तोड़ देने चाहिए। सिर्फ गांगुली ही नहीं बल्कि एक के बाद एक हर किसी का इस मुहिम को समर्थन मिल रहा है।

DO NOT MISS