Virat Kohli (Photo: AP)
Virat Kohli (Photo: AP)

Cricket News

चौतरफा आलोचना झेल रहे कोहली के बचाव उतारा ये पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी, कही ये बात

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान एलेन बार्डर ने विराट कोहली की आक्रामकता का बचाव करते हुए कहा है कि क्रिकेट को उनके जैसे खिलाड़ियों की जरूरत है जो मैदान पर जज्बाती रहते हैं . 

बार्डर ने फाक्स क्रिकेट के पाडकास्ट ‘द फालोआन’ पर कहा ,‘‘ हमारे खेल में इस तरह के ज्यादा लोग नहीं है . पेशेवरपन से यह कुछ हद तक कम हो गया है .’’ 

ऑस्ट्रेलिया में मौजूदा टेस्ट श्रृंखला के दौरान आक्रामक जश्न मनाने के लिये माइक हस्सी, मिशेल जानसन और संजय मांजरेकर ने कोहली की निंदा की है . ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन के साथ कोहली की बहस भी हो गई थी.

बार्डर ने कहा ,‘‘ मैने किसी कप्तान को उसकी टीम के विकेट लेने पर ऐसे जश्न मनाते नहीं देखा . यह जरूरत से ज्यादा है लेकिन अच्छा भी है . उसमें जुनून है .’’ 

उन्होंने यह भी कहा कि वह विदेशी सरजमीं पर जीतकर अपनी छाप छोड़ना चाहता है . 

उन्होंने कहा ,‘‘ वह घर से बाहर जीतने को इतना बेकरार है और वाकई नंबर वन रैंकिंग का हकदार है . बतौर कप्तान यह आपकी असली परीक्षा है .’’ 

बार्डर ने कहा ,‘‘ वह टीम को नंबर वन बनाने में कामयाब रहा है लेकिन कप्तान की असली पहचान अपने देश से बाहर मिली जीत से होती है . वह इस कमी को पूरा करना चाहता है .’’

इससे पहले पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज जहीर खान और प्रवीण कुमार ने अपने मैदानी व्यवहार के कारण ऑस्ट्रेलियाई दिग्गजों की आलोचना झेल रहे भारतीय कप्तान विराट कोहली का बचाव करते हुए बुधवार को कहा कि वह जैसे हैं उन्हें वैसा ही रहना चाहिए.

एलन बॉर्डर, माइक हसी, मिशेल जॉनसन और यहां तक भारत के संजय मांजरेकर ने कोहली के मैदानी व्यवहार पर नाराजगी जताई.

जहीर ने कहा, ‘मैं यही कहूंगा कि विराट को जो सबसे अच्छा लगता है वे उस पर कायम रहें. आपको जिसमें सफलता मिलती है वे उस पर कायम रहें. आपको सफलता के अपने फार्मूले से नहीं हटना चाहिए. यह मायने नहीं रखता कि बाकी क्या कह रहे हैं. ऑस्ट्रेलिया में श्रृंखला हमेशा इस तरह से कड़ी होती है.’

पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज प्रवीण कुमार ने भी जहीर की हां में हां मिलाई.

प्रवीण ने कहा, ‘कोहली अंडर-16, अंडर-19 और रणजी ट्राफी स्तर से ही आक्रामकता के साथ खेलता रहा है. अगर वह भारत की तरफ से खेलते हुए वही आक्रामकता दिखा रहा है तो यह क्या मुद्दा है. मैंने उसके साथ काफी क्रिकेट खेली है और मैं कह सकता हूं कि वह आक्रामकता के बिना अपनी सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट नहीं खेल सकता.’

(इनपुट- भाषा)

DO NOT MISS