Credit- IPL Twitter( @IPL)
Credit- IPL Twitter( @IPL)

Cricket News

चेन्नई सुपरकिंग्स की जीत में चमके ब्रावो और वाटसन, , दिल्ली को 6 विकेट से हराया

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

ड्वेन ब्रावो की अगुवाई में डेथ ओवरों की कसी गेंदबाजी और शेन वाटसन से मिली शानदार शुरुआत के दम पर मौजूदा चैंपियन चेन्नई सुपरकिंग्स ने मंगलवार को यहां दिल्ली कैपिटल्स को उसके घरेलू मैदान पर छह विकेट से हराकर अपना विजय अभियान जारी रखा।
 
आईपीएल के इतिहास में दूसरी बार दोनों टीमें तीन . तीन विदेशी खिलाड़ियों के साथ ही मैदान पर उतरी लेकिन चेन्नई की जीत में उसके विदेशी खिलाड़ियों का योगदान अहम रहा। नाम बदलने के बाद पहली बार अपने घरेलू मैदान पर खेल रही दिल्ली कैपिटल्स ने टास जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए छह विकेट पर 147 रन बनाये जिसमें सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (47 गेंदों पर 51 रन) का संघर्षपूर्ण अर्धशतक शामिल है। 
 
फिरोजशाह कोटला की पिच मैच आगे बढ़ने के साथ रन बनाना आसान नहीं था। ऐसे में शेन वाटसन (26 गेंदों पर 44 रन, 4x4, 3x6) और सुरेश रैना (16 गेंदों पर 30, 4x4, 1x6) की दूसरे विकेट के लिये चार ओवर में 52 रन की साझेदारी महत्वपूर्ण साबित हुई। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (35 गेंदों पर नाबाद 32 रन) और केदार जाधव (34 गेंदों पर 27 रन) को रन बनाने के लिये संघर्ष करना पड़ा लेकिन इन दोनों के बीच चौथे विकेट के लिये 53 गेंदों पर 48 रन जोड़े जिससे चेन्नई ने 19.4 ओवर में चार विकेट पर 150 रन बनाकर जीत दर्ज की।
 
इससे पहले चेन्नई को वापसी दिलाने में ब्रावो (चार ओवर में 33 रन देकर तीन विकेट) ने अहम भूमिका निभायी। उन्होंने पहले ओवर में 17 रन लुटाये लेकिन बाद में छह गेंद के अंदर ऋषभ पंत (13 गेंद पर 25 रन) और धवन सहित तीन विकेट निकालकर दिल्ली की डेथ ओवरों की रणनीति नाकाम कर दी। रविंद्र जडेजा (चार ओवर में 23 रन देकर एक विकेट) ने बीच के ओवरों में जबकि दीपक चाहर (चार ओवर में 20 रन देकर एक विकेट) ने बीच के ओवरों में रन गति पर अंकुश लगाया। 
 
दिल्ली कैपिटल्स के गेंदबाजों में अक्षर पटेल (चार ओवर में 16 रन) ने बीच के ओवरों में शानदार गेंदबाजी करके मैच को रोमांचक बनाया। अमित मिश्रा (चार ओवर में 35 रन देकर दो विकेट) दिल्ली के सबसे सफल गेंदबाज रहे। चेन्नई की जो जीत आसान लग रही थी, उसे दिल्ली के गेंदबाज आखिरी ओवर तक ले गये जिससे उसका रन रेट गड़बड़ा गया। चेन्नई को आगे अगर मगर की स्थिति में यह धीमी बल्लेबाजी महंगी पड़ सकती है। 
 
वाटसन और रैना दोनों ने कोटला पर अपने पुराने रंग की झलक दिखायी। वाटसन का कैगिसो रबाडा (26 रन देकर एक) पर गलत टाइमिंग से किया गया पुल विकेटकीपर के पीछे छह रन के लिये गया लेकिन मिश्रा पर लगाये गये उनके दोनों छक्के दर्शनीय थे जिस पर दिल्ली के धुर प्रशंसक ने भी तालियां बजायी। मिश्रा ने हालांकि उन्हें इसी ओवर में स्टंप आउट कराया। 
 
पटेल ने इससे पहले पांच अवसरों पर वाटसन को आउट किया था लेकिन आज इस आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज ने शुरू में उन पर दो चौके लगाकर गेंदबाजी से हटवा दिया था। रैना के इशांत शर्मा पर लगाये गये तीनों चौके लाजवाब थे लेकिन मिश्रा की गेंद पर विकेट के पीछे कैच देने से मैच रोमांचक बन गया। 
 
चेन्नई को पांच रन प्रति ओवर से भी कम की दर से रन बनाने की जरूरत थी लेकिन पटेल और कीमो पॉल और रबाडा ने बीच के ओवरों में कसी हुई गेंदबाजी करके इसे छह रन प्रति ओवर से अधिक कर दिया। पटेल ने अपने अंतिम तीन ओवर में केवल सात रन दिये। 
 
आलम यह था जिस चेन्नई को अंतिम दस ओवर में 51 रन की दरकार थी उसने अगले सात ओवर में केवल 29 रन बनाये जिससे आखिरी तीन ओवर में उसे 22 रन बनाने थे। मिश्रा 19वां ओवर करने के लिये आये और धोनी ने उनके सिर के ऊपर से छक्का जड़कर हिसाब बराबर कर दिया। ब्रावो (नाबाद चार) ने विजयी चौका लगाया। 
  
इससे पहले धवन ने 17 ओवर तक एक छोर संभाले रखा लेकिन वह अपेक्षित तेजी से रन नहीं बना पाये और डेथ ओवरों में जब टीम को उनकी जरूरत थी तब पवेलियन लौट गये। उनकी पारी में सात चौके शामिल हैं। धवन ने पृथ्वी साव (16 गेंदों पर 24 रन) के साथ पहले विकेट के लिये 36 और पंत के साथ तीसरे विकेट के लिये 41 रन की साझेदारियां की। 
 
दिल्ली का स्कोर 15 ओवर के बाद दो विकेट पर 118 रन था। धवन और पंत क्रीज पर थे और उसके पास अंतिम पांच ओवरों में लंबे शाट खेलने का अच्छा मौका था लेकिन चेन्नई ने शानदार वापसी की और इन ओवरों में केवल 29 रन दिये और इस बीच चार विकेट निकाले। ब्रावो ने इस बीच छह गेंदों के अंदर पंत और धवन के अलावा कोलिन इंग्राम (दो) को आउट किया। शार्दुल ठाकुर ने पंत और धवन दोनों के हवा में खेले गये शाट को खूबसूरती से कैच में बदला। दिल्ली की तरफ से अंतिम पांच ओवरों में केवल दो चौके लगे। 

दिल्ली की पारी के शुरू में साव ने कुछ अच्छे शाट लगाये। उन्होंने शार्दुल ठाकुर पर लगातार तीन चौके लगाये और उनकी जगह गेंद थामने वाले हरभजन सिंह (चार ओवर में 30 रन) पर लॉफ्टेड ड्राइव का अच्छा नजारा पेश किया। कप्तान श्रेयस अय्यर (20 गेंदों पर 18 रन) हालांकि रन बनाने के लिये जूझते रहे। अय्यर ने इमरान ताहिर (दो ओवर में 20 रन देकर एक) पर पारी का पहला छक्का लगाया लेकिन इसी लेग स्पिनर ने अगले ओवर में उन्हें पगबाधा आउट कर दिया। 
 
 
 
 

DO NOT MISS