Cricket News

भारतीय क्रिकेट टीम के धुरंधर ऑलराउंडर युवराज सिंह ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

टीम इंडिया यहां विश्वकप में शानदार प्रदर्शन कर रही है वहीं इस खास मौके पर 2011 विश्व कप के हीरो रहे युवराज सिंह ने सोमवार को नम आंखो से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास की घोषणा कर दी।  मुंबई में एक प्रेस कांफ्रेस कर भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया, कहा यह क्रिकेट को अलविदा कहने का सही समय। 

अपने विदाई संदेश में युवी ने मीडिया को संबोधित करते हुए अपने क्रिकेटिंग करियर में आए हर एक उतार - चढ़ाव और अच्छी बुरी याद का जिक्र किया । उन्होंने कहा कि 25 साल और 17 साल के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के मेरे करियर के बाद अब मैंने आगे बढ़ने का फैसला कर लिया है। इस खेल ने मुझे सिखाया है कि कैसे लड़े, कैसे गिरें , कैसे उठे और फिर कैसे आगें बढ़े।

युवराज ने कहा कि यह उनके लिए काफी भावनात्मक पल है और उसका करियर एक रोलर - कोस्टर की तरह रहा है।  उन्होंने कहा कि वह काफी समय से रिटायरमेंट के बारे में सोच रहे थे और अब उनका प्लान आईसीसी द्वारा मान्यता प्राप्त टी-20 टूर्नामेंट्स में खेलने का है।

युवराज ने नम आंखो से कहा कि मैंने कभी किसी चुनौती के आगे हार नहीं मानी चाहे वो क्रिकेट का मैच रहा हो या फिर कैंसर जैसी बीमारी। 

बता दें भारतीय क्रिकेट टीम के धुरंधर ऑलराउंडर युवराज सिंह ने अपना अंतिम टेस्ट साल 2012 में खेला था। सीमित ओवरों के क्रिकेट में वह अंतिम बार 2017 में दिखे थे। युवराज ने साल 2000 में पहला वनडे, 2003 में पहला टेस्ट और 2007 में पहला टी-20 मैच खेला था।

चंडीगढ़ में साल 1981 में जन्में युवराज ने भारत के लिए 40 टेस्ट, 304 वनडे और 58 टी-20 मैच खेले. टेस्ट में युवराज ने तीन शतकों और 11 अर्धशतकों की मदद से कुल 1900 रन बनाए जबकि वनडे में उन्होंने 14 शतकों और 52 अर्धशतकों की मदद से 8701 रन जुटाए।


 

DO NOT MISS