R bharat

Karnataka 2018: नोट के बदले वोट स्कैंडल का हुआ खुलासा, पढ़े क्या है पूरा मामला

Written By | Mumbai | Published:

कर्नाटक विधानसभा  चुनाव को लेकर रिपब्लिक टीवी ने एक बहुत बड़ा खुलासा किया है. रिपब्लिक टीवी की वरिष्ठ पत्रकार प्रेमा श्रीदेवी ने चुनाव के दौरान हो रही फेक वोटर स्कैंडल का खुलासा किया है. ये स्कैम वोट को खरीदने को लेकर है. लगभग 9896 वोटर कार्ड मिले हैं. ये सभी वोटर कार्ड असली हैं. ये वोटर कार्ड गरीबी रेखा से नीचे रह रहे लोगों से जुड़े हैं. बता दें, इन गरीब लोगों के वोटर कार्ड को चुनाव से पहले ले लिया जाता है और चुनाव के दिन इन्हें माफियाओं के द्वारा किसी खास राजनीतिक दल को वोट देने के लिए कहा जाता है. वहीं बदले में इन गरीब लोगों को उनकी जरूरतों के हिसाब से पैसे या फिर सामान दिया जाता हैं. 

बता दें, प्रेमा श्रीदेवी के अनुसार एक बड़ी राजनीतिक पार्टी अपने लोगों को गरीबी रेखा से नीचे रह रहे लोगों के वोटर कार्ड को अपने पास रखते हैं और चुनाव के दिन उन्हें लालच देकर अपनी पार्टी के पक्ष मैं वोट करवाते हैं. 

इन वोटर कार्ड से जुड़ी सभी अहम जानकारी इन माफियाओं के पास होती हैं. वोट के बदले इन गरीब लोगों को उनकी जरूरत का सामान दिया जाता हैं. कर्नाटक चुनाव आयोग के एक सूत्र ने रिपब्लिक टीवी को बताया है कि लगभग 9472 जब्त वोटर आईडी कार्ड असली हैं. सूत्रों ने ये भी बताया है कि जिस फ्लैट में रेड किया गया था वो राकेश से संबंधित नहीं हैं. लेकिन, वो एक महिला जिसका नाम रेखा है उसे 16 हजार के किराए पर दिया गया है. 

सूत्रों ने रिपब्लिक टीवी को ये भी बताया है कि जो महिला सवालों के घेरे में हैं उसको कुछ महीने पहले ही किराए पर फ्लैट दिया गया है. वहीं अब सवाल उठ रहे हैं की क्या इस महीला को फ्लैट स्कैम करने के लिए दिया गया था? वहीं अब EC और अन्य जांच एजेंसी रेखा के अतीत को खंगालने में लगा हुआ है. 

वहीं इस पूरे मामले पर भारतीय जनता पार्टी का डेलीगेशन चुनाव आयोग से बुधवार को शाम 6 बजे मुलाकत करने जाएंगे. इस पूरे डेलीगेशन में BJP नेता मुख्तार अब्बास नकवी, जे.पी नड्डा, धर्मेंद्र प्रधान, स्मृति ईरानी, जनरल वी.के सिंह, एस.एस अहलूवालिया, मीनाक्षी लेखी, नलिन कोहली.

DO NOT MISS