R bharat

Exclusive Video 2 - मिशनरीज ऑफ चैरिटी की कर्मचारी ने कबूला गुनाह, कहा - न्यू बोर्न बेबी का सौदा 1.20 लाख रुपए में किया

Written By | Mumbai | Published:

झारखंड की राजधानी रांची में मिशनरीज ऑफ चैरिटी में नवजात शिशुओं को बेचने के मामले में दूसरा सनसनी खेज वीडियो सामने आया है. इस वीडियो में मिशनरीज ऑफ चैरिटी की कर्मचारी अनिमा इंदवार ने रांची पुलिस के सामने अपना गुनाह कबूल करते हुए कहा कि उसने अब तक तीन नवजात शिशुओ को बेचा है. 

पहला  नवजात शिशु रांची के ही मोराबादी और दूसरा कांटा टोली इलाके में बेचा है, और तीसरा  यूपी के एक दंपती को 1 लाख 20 हजार रुपय में बेचा था. इस गुनाह में उसके साथ गार्ड भी मौजूद था. वह एक सिस्टर को बचाते हुए कहती है कि सौदे के दौरान सामने बैठी सिस्टर उसके साथ मौजूद नहीं थी. 

वहीं इससे पहले रांची पुलिस के पास  सिस्टर कोनसीलिया  ने गुनाह कबूल करते हुए कहा  कि 'मैं  अपने साथी करिश्मा और अनिमय के साथ मिलकर कर इस रैकेट को चलाती थी. हमने अब तक तीन नवजात शिशुओं को बेचा है. उन्हें कहा बेचा गया है उनका पता नहीं मालूम है. फाइल देख कर आपको बता दूंगीं.  

सिस्टर ने पुलिस के सामने कबूला कि उसने 50-50 हजार रुपए में दो और एक बच्चे को 1.20 लाख रुपए में बेचा था. और एक बच्चे को फ्री में दे दिया था. 

यहां देखें पहला Exclusive Video- मिशनरीज ऑफ चैरिटी की सिस्टर ने कबूला गुनाह, कहा- 50 हजार से एक लाख रुपये में नवजात शिशुओं को बेचा 

बता दें रांची पुलिस ने बच्चों की बिक्री के मामले में मदर टेरेसा की संस्था मिशनरी ऑफ चैरिटीज की सिस्टर एवं कर्मचारी को पूछताछ के लिए चार दिनों की रिमांड पर लिया है. जिससे पूरे रैकेट का पर्दाफाश किया जा सके.

वहीं रांची के नगर पुलिस अधीक्षक अमन कुमार ने बताया कि मिशनरी बेचे गए चौथे बच्चे का अब तक पता नहीं चला है लिहाजा उसका पता लगाने और इस कांड में शामिल रैकेट का पर्दाफाश करने के लिए पुलिस ने सिस्टर कंसोलिया और इंदवार को रिमांड पर लेकर पूछताछ करने का आवेदन मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट स्वयंभू की अदालत में दिया था जो उन्होंने स्वीकार कर लिया.

पुलिस इस मामले में बेचे गए तीन बच्चों को पहले ही बरामद कर चुकी है.

यह भी पढ़े - बच्चा बिक्री मामला: मदर टेरेसा की मिशनरी की सिस्टर और कर्मचारी पुलिस रिमांड पर

वहीं मिशनरी ऑफ चैरेटी के हिनू स्थित सदन में कस्टडी में लिए गए 22 बच्चों में से 8 को शुक्रवार को रांच बाल कल्याण समिति ने रिलीज कर दिया. सभी बच्चे खूंटी के है. इन सभी बच्चों को पुलिस की स्कॉट पार्टी के जरिए खूंटी सीडब्ल्यूसी के पास भेजा गया. 

DO NOT MISS