PC-TWITTER
PC-TWITTER

Books

BJP के पूर्व अध्यक्ष सतीश ने लिखी पुस्तक ‘ज़िन्दगी.. चलते चलते’, छोटे-छोटे लम्हों, वाकिया और प्रसंगों को दिया कविता का रूप

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

दिल्ली भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्यक्ष सतीश उपाध्याय द्वारा लिखित पुस्तक ‘ज़िन्दगी.. चलते चलते’ का शुक्रवार को विश्व पुस्तक मेले में विमोचन किया गया जिसमें जिन्दगी के हृदयस्पर्शी वर्णन किये गये हैं। यह पुस्तक मूल रूप से एक कविता संग्रह है जिसमें जिन्दगी के छोटे-छोटे लम्हों, वाकयों और प्रसंगों को कविता का रूप दिया गया है। परिचर्चा के दौरान लेखक उपाध्याय ने बताया कि जिन्दगी बिना किसी कहानी के नहीं होती, हर जिन्दगी में एक कहानी छिपी होती है।

इस मौके पर यश पब्लिकेशन के निर्देशक राहुल भारद्वाज ने कहा कि इसे कविता संग्रह कहें, कहानी और कविता का संगम कहें या फिर भावनाओं के धागे में पिरोए कुछ शब्द। पुस्तक कहीं न कहीं सभी के हृदय को स्पर्श करती हुई मिलेगी। इस पुस्तक की सबसे बड़ी खासियत यह है कि कहीं न कहीं इसमे संजोए भाव हम सबको बाँधे रखते हैं। पाठक निश्चित रूप से इन कविताओं में खुद की ज़िंदगी की झलक पाएगा। कविता प्रायः मुक्त छन्द में है लेकिन उनमें एक प्रवाह है। कविताओं में अनेक प्रकार के भाव विद्यमान हैं जो जीवन के अलग-अलग पड़ाव को दर्शाते से जान पड़ते हैं।

 

DO NOT MISS