Politics

बंगाल में कार्यकर्ताओं को कैब’ के नियमों को लेकर जागरूक करेगी भाजपा

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

पश्चिम बंगाल उपचुनाव में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) लागू करने का दांव सफल ना होने के बाद अब भगवा पार्टी ने कार्यशालाओं का आयोजन कर अपने कार्यकर्ताओं को नागरिक (संशोधन) विधेयक (कैब) के नियमों के बारे जागरूक करने का निर्णय लिया है।

गौरतलब है कि हाल ही में खड़गपुर सदर, करीमपुर और कालियागंज विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में पार्टी कहीं भी जीत दर्ज नहीं कर पाई थी। इन तीनों सीटों पर तृणमूल कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी। लोकसभा चुनाव के बाद राज्य में हुए यह पहले चुनाव थे।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘‘ उपचुनाव के नतीजों का आकलन करते हुए हमने पाया कि कार्यकर्ताओं को कैब के नियमों की जानकारी नहीं थी इसलिए वे संदेश पहुंचाने में असफल रहे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ इसलिए, कार्यकर्ताओं को विधयेक को लेकर जागरूक करने के लिए बूथ स्तर पर पार्टी कक्षाएं, कार्यशालाएं और सेमिनार का आयोजन किया जाएगा। तृणमूल के एनआरसी के गलत प्रचार का जवाब हम कैब के सकारात्मक प्रचार से देंगे।’’

भाजपा सूत्रों ने बताया कि यह विधेयक अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश के अल्पसंख्यक समुदायों के लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान करने का प्रयास करता है, जो वहां धार्मिक उत्पीड़न से बचने के लिए यहां भाग आए। संसद के चालू शीतकालीन सत्र के दौरान इसे पेश किए जाने की संभावना है।

भाजपा नेता ने कहा, ‘‘ विधेयक के पारित होते ही, हम कैब पर राज्य स्तरीय अभियान चलाएंगे। भाजपा के वरिष्ठ नेता इन पार्टी कक्षाओं, सेमिनार और कार्यशालाओं को संबोधित करेंगे। सीमावर्ती इलाकों में कानून पर पर्ची और पुस्तिकाएं भी बांटी जाएंगी।’’

बता दें पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा उपचुनाव में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने तीनों सीटों पर जीत दर्ज कर ली है। राज्य में लोकसभा चुनावों में शानदार प्रदर्शन करने वाली भाजपा इस विधानसभा उपचुनाव में एक भी सीट नहीं जीत पाई और उसे खड़गपुर सदर सीट का नुकसान उठाना पड़ा है। वहीं, उत्तराखंड की पिथौरागढ़ सीट पर हुए उपचुनाव में सत्तारूढ़ भाजपा ने अपना कब्जा बरकरार रखा।

पश्चिम बंगाल में विधानसभा उपचुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने कालियागंज, खड़गपुर सदर और करीमपुर सीटों पर जीत दर्ज की। भाजपा इन तीनों सीटों पर दूसरे नम्बर पर रही।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उपचुनाव में जीत के बाद कहा कि मतदाताओं ने भाजपा को उसके ‘‘सत्ता के अहंकार’’ के लिये सबक सिखाया है।

इन सभी जगहों पर 25 नवम्बर को मतदान हुआ था। गुरुवार को आए विधानसभा उपचुनाव के नतीजों में तृणमूल कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल की कालियागंज और खड़गपुर सदर और करीमपुर सीट पर जीत दर्ज की है।

पश्चिम बंगाल में सबसे चौंकाने वाले परिणाम खड़गपुर सदर सीट से रहा है। इस साल हुए लोकसभा चुनाव में राज्य की कुल 42 सीटों में से 18 सीटें जीतने वाली भाजपा के विधानसभा उपचुनाव में उम्मीदवार प्रेमचंद्र झा को तृणमूल कांग्रेस के प्रदीप सरकार ने हराकर भगवा पार्टी से यह सीट छीन ली।

निर्वाचन आयोग के अधिकारियों ने गुरुवार को बताया कि सरकार ने भाजपा उम्मीदवार को 20788 मतों के अंतर से हराया।

खड़गपुर सदर सीट पर भाजपा की हार पार्टी के लिए एक झटका है जिसके प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष मेदिनीपुर से लोकसभा चुनाव जीतने से पहले वहां से विधायक थे। खड़गपुर सदर मेदिनीपुर लोकसभा क्षेत्र के तहत आने वाला एक विधानसभा क्षेत्र है।

DO NOT MISS