Politics

राफेल मामले पर राहुल गांधी ने की JPC की मांग, बोले- दूध का दूध, पानी का पानी हो जाएगा..

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर एक बार  फिर कांग्रेस सहित विपक्षी पार्टीयां हमलावार हो गई है. मंगलवार को लोकसभा में इस डील पर भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर बहुस शुरू हुई. बहस के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल सौदे को लेकर कई सवाल पूछे..
राहुल गांधी के भाषण की मुख्य बातें....

  • गोवा के मंत्री ने दावा किया कि गोवा के मुख्यमंत्री और भारत के पूर्व रक्षा मंत्री ने कहा कि राफेल की सारी फाइलें उनके पास हैं. इस बात को गोवा के कैबिनेट मंत्री ने प्रमाणित किया गया है जो भाजपा से जुड़े हुए हैं.
  • हम इस मामले जेपीसी की मांग करते हैं. मैं बीजेपी से कहना चाहता हूं कि डरने की बात नहीं, जेपीसी का आदेश दीजिए. ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए.
  • एक बड़ा सवाल उठता है कि पुराने सौदे में एचएएल हवाई जहाज बनाती और विभिन्न प्रदेशों में हवाई जहाज बनता. लेकिन ‘डबल ए’ को कांट्रैक्ट दिया गया, लाखों युवाओं से रोजगार छीना गया
  • भारतीय वायुसेना के वरिष्ठ अधिकारियों ने लंबी बातचीत के बाद राफेल विमान को चुना. उन्हें 126 विमान चाहिए थे. इसे 36 विमानों में क्यों बदला गया? किसने इस जरूरत को बदला?...  
  • सरकारी खजाने पर 30,000 करोड़ का बोझ डालकर पीएम के मित्र श्री अनिल अंबानी को ठेका क्यों दिया गया? ....
  • फ्रांस के राष्ट्रपति ने सार्वजनिक बयान में स्पष्ट रूप से क्यों कहा कि पीएम ने उनसे कहा है कि वो उनकी तरफ से श्री अंबानी को चुनें?...
  • प्रधानमंत्री जी ने कहा कि किसी ने उन पर आरोप नहीं लगाया. ये सच नहीं है...

इससे पहले कांग्रेस की वरिष्ठ प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने  पूर्व रक्षा मंत्री और गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर पर गंभीर आरोप लगाए.  इसके साथ ही सुरजेवाला ने मोदी सरकार से सवाल किया कि राफेल डील से जुड़े कौन सी फाइलें मनोहर पर्रिकर के फ्लैट में छिपे हैं. कांग्रेस ने राफेल डील से जुड़ी फाइलों को सामने लाने की मांग की.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को एक इंटरव्यू के दौरान राफेल डील पर भी अपनी बात रखी थी. पीएम मोदी ने कहा था कि मुझ पर कोई व्यक्तिगत आरोप नहीं है. और क्या राहुल गांधी सुप्रीम कोर्ट से भी बड़ी हैं? मोदी ने राफेल जेट खरीद सौदे में भ्रष्टाचार के आरोपों के जवाब में कहा, "वे लोग जो सेना को कमज़ोर करना चाहते हैं, 

इसपर सुरजेवाला ने कहा, 'चौकीदार आज हर सवाल का जवाब देने से बच रहे हैं. वो कहते हैं उनपर कोई व्यक्तिगत आरोप नहीं है. ये है व्यक्तिगत आरोप मोदी जी... ये साक्ष्य और तथ्य है मोदी जी आपके उपर व्यक्तिगत आरोपों के और दूसरा व्यक्तिगत आरोप है जो फ्रांस के राष्ट्रपति हॉलैंड ने आपके उपर लगाया था. कि पूरी डील में आपने शर्त रखी व्यक्तिगत तौर से कि अनिल अंबानी को ठेका मिलेगा सरकारी कंपनी से छीनकर तो जहाज खरीदे जाएंगे वरना नहीं. इस बात की पुष्टि हॉलैंड जी ने दोबारा की.'

DO NOT MISS