Politics

'महागठबंधन' को लगा झटका, अखिलेश यादव का कांग्रेस पर तीखा वार..

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने एक रैली को संबोधित करते हुए अपनी पुरानी सहयोगी कांग्रेस पार्टी पर हमला बोला है. छत्तीसगढ़ के कोरबा में गुरुवार को एक रैली को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कांग्रेस पार्टी पर हमला बोलकर 2019 लोकसभा चुनाव में 'कांग्रेस से साथ गठबंधन' की खबरों पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया है.

बता दें, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव दरअसल गोंडवाना रिपब्लिकन पार्टी के लिए वोट मांग रहे थे. मंच से लोगों को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने NDA की सरकार के द्वारा की गई नोटबंदी पर सवाल उठाते हुएन बीजेपी और कांग्रेस बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों पर हमला बोला. 

अखिलेश यादव ने कहा कि 'जो आपने जमा किया नोटबंदी के समय पैसा .. आपको धोखा देकर सब पैसा जमा करा लिया गया.. नोटबंदी में सब पैसा जमा हो गया.. हमारी माताओं.. बहनों ने पैसा जमा करके रखा था वो भी जमा करा दिया इन लोगों ने .. और जब बैंकों में जमा हो गया तो सोचो बैंकों का पैसा लेकर कौन भाग गया भारत छोड़कर.. जाने कितने लोग भाग गए भारत छोड़कर ..'

इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'ये बीजेपी के लोग बताए हमें .. और इसमें दोनों शामिल हैं कांग्रेस भी शामिल हैं.. इन दोनों में कोई भेदभाव नहीं है जो बीजेपी है वो कांग्रेस है.. और जो कांग्रेस है वो बीजेपी है..'

बता दें, हाल के दिनों में बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस पार्टी पर जमकर हमला बोला था. इसी को देखते हुए समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव भी कांग्रेस पर हमला बोल रहे हैं. गौरतलब है कि जहां एक तरफ चंद्रबाबू नायडू सभी विपक्षी दलों को नरेंद्र मोदी के खिलाफ लाने का प्रयास करे हैं वहीं दूसरी तरफ विपक्षी पार्टियां ही एक दूसरे पर निशाना साध रहे हैं. 

साल 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी और समाजवादी पार्टी ने गठबंधन किया था. दोनों ही पार्टियों को उत्तर प्रदेश के चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा था. वहीं हाल ही में मायावती ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए राजस्थान और मध्य प्रदेश चुनाव अकेले लड़ने का ऐलान किया था. 

वहीं अब देखने वाली बात होगी की क्या 2019 के लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी, कांग्रेस के साथ आती है या फिर वो भ्रष्टाचार में उसे भागीदार मानकर उनका विरोध करती है? 

DO NOT MISS