Politics

इलाहाबाद का नाम बदलने को लेकर CM योगी ने दिया जवाब, 'तुम्हारे मां-बाप ने कभी तुम्हारा नाम रावण और दुर्योधन क्यों नहीं रखा..'

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

कुछ दिन पहले ही उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया था. जिसके बाद राज्य सरकार और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सोशल मीडिया पर काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा था.

लोगों ने CM योगी को ट्विटर पर काफी ट्रोल भी किया था. वहीं अब इस पूरे मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुप्पी तोड़ी है. CM योगी ने कहा है कि ''मैंने प्रयागराज का नाम बदला, लोग कह रहे हैं क्यों नाम बदलते हैं.. कुछ लोगों ने कहा नाम से क्या होता है.. तो मैंने कहा तुम्हारे मां बाप ने कभी तुम्हारा नाम रावण और दुर्योधन क्यों नहीं रख दिया..''

इसके साथ ही आदित्यनाथ ने कहा, ''नाम का बड़ा महत्व होता है.. इस देश के अंदर सबसे अधिक नाम राम से जुड़ते हैं.. मैं मानता हूं कि अनुसूचित समाज में सबसे अधिक नाम कोई जुड़ा है तो राम के साथ जुड़ा है.. हर व्यक्ति अपने साथ राम जोड़ता है.. नाम का ही महत्व है.. नाम हम सब को हमारी गौरवमय परंपरा के साथ जोड़ता है.. इसलिए प्रयागराज नाम क्यों नहीं होगा..''

देखें पूरा बयान-

इलाहाबाद का नाम बदलने को लेकर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर हमला तीखा हमला बोला था. उन्होंने नाम बदलने को परंपरा और आस्था के साथ खिलवाड़ करार दिया था.

उन्होंने कहा था कि ‘‘राजा हर्षवर्धन ने अपने दान से प्रयाग कुम्भ का नाम किया था और आज के शासक केवल ‘प्रयागराज’ नाम बदलकर अपना काम दिखाना चाहते हैं. इन्होंने तो ‘अर्ध कुम्भ’ का भी नाम बदलकर ‘कुम्भ’ कर दिया है. ये परम्परा और आस्था के साथ खिलवाड़ है .’’

उल्लेखनीय है कि 13 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इलाहाबाद प्रवास के दौरान एक बैठक में अखाड़ा परिषद के सदस्यों और अन्य लोगों ने मुख्यमंत्री से कुंभ मेले से पहले जिले का नाम परिवर्तित कर प्रयागराज करने की मांग की थी.

इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर निर्माण को लेकर मीडिया से बात करते हुए कहा था कि भगवान राम के नाम पर दीपक जलाएं, मंदिर का काम जल्द शुरू होगा. बता दें, सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले पर सुनवाई को जनवरी 2019 तक के लिए टाल दिया है. जिसके बाद से ही इस पूरे मामले पर बयानबाजी की जा रही है.

DO NOT MISS