Politics

बड़ा खुलासा: पूर्व DRDO चीफ बोले- UPA सरकार ने 'शक्ति मिशन" के लिए ना ही संसाधन दिए और ना ही अनुमति

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

भारत ने अंतरिक्ष में एंटी मिसाइल से एक लाइव सैटेलाइट को मार गिराते हुए आज अपना नाम अंतरिक्ष महाशक्ति के तौर पर दर्ज करा दिया है। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में 300 किलोमीटर दूर लो अर्थ ऑर्बिट में एक लाइट सैटलाइट को मार गिराया है। यह पूर्व निर्धारित लक्ष्य था। 

लेकिन हर मुद्दे की तरह ये भी देशहति मुद्दा भी राजनीति की भेंट चढ़ गया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए उन्हें वर्ल्ड थियेटर डे की बधाई दी थी। यानि मतलब साफ था कि प्रधानमंत्री के देश संबोधन देना कांग्रेस अध्यक्ष को ड्रामा लग रहा था।

हालांकि, रिपब्लिक टीवी को एक एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में, डीआरडीओ के पूर्व प्रमुख विजय कुमार सारस्वत ने खुलासा किया कि 2012 और 2013 में यूपीए सरकार ने 'मिशन शक्ति' के लिए जरूरी अनुमति नहीं दी थी, हालांकि डीआरडीओ आवश्यक कदमों के साथ उस समय भी तैयार था।

यह भी पढ़ें - SHAMEFUL: भारत की सफलता पर सियासत क्यों? राहुल गांधी समेत विपक्षी नेताओं ने साधा पीएम मोदी पर निशाना

डीआरडीओ के पूर्व प्रमुख ने कहा, "हम इस लंबे समय से लॉन्च करने में सक्षम थे।"

उन्होंने कहा कि हमने पहले ही उत्तेजना प्रक्रिया को पूरा कर लिया था। हम लोगों ने देखा था कि बैलिस्टिक मिसाइल डिफेंस प्रोग्राम में कैपेबिलिटी डवलप हुई थी और अग्नि प्रोग्राम में जो क्षमता विकसित हुई थी तो हम उनको मिलाएं तो ये हो जाएगा। लेकिन उस समय उस तरह की अनुमति हमें नहीं मिली। तो इसलिए 2012-13-14 में इस तरह के कार्यक्रम नहीं हुए। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलहकार अजित डोभाल के नेतृत्व में हमें इस तरह की अनुमति और साधन मिले इसलिए DRDO ने एकीकरण, प्राप्ति और प्रदर्शन निर्धारित किया। 

यह भी पढ़ें - अंतरिक्ष का चौथा सुपरपावर बना भारत, अब तक अमेरिका, रूस और चीन ने ही हासिल की है ये उपलब्धि

बता दें, दूसरी ओर भारत अपने रैंकों में ऐसा उपग्रह रखने वाला केवल चौथा देश बन गया है। भारत से पहले, केवल चीन, संयुक्त राज्य अमेरिका और रूस में किसी भी प्रकार के अंतरिक्ष खतरे से निपटने की क्षमता थी।

भारत ने अंतरिक्ष में एंटी मिसाइल से एक लाइव सैटेलाइट को मार गिराते हुए आज अपना नाम अंतरिक्ष महाशक्ति के तौर पर दर्ज करा दिया। 

DO NOT MISS