Politics

BJP नेता संगीत सोम ने कहा- बदला जाएगा मुजफ्फरनगर का नाम, हो सकता है ये नाम

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

उत्तर प्रदेश से भारतीय जनता पार्टी के नेता संगीत सोम ने शहरों के नाम बदलने को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. बता दें, बीजेपी नेता संगीत सोम ने अब मुजफ्फरनगर के नाम को बदलने की बात कही है. उन्होंने कहा है कि, 'मुगलों ने यहां की संस्कृति को मिटाने का काम किया है.. खासतौर से हिंदुत्व को मिटाने का काम किया है.. हम लोग उस स्संकृति को बचाने के लिए काम कर रहे हैं. भारतीय जनता पार्टी उसपर आगे बढ़ेगी.

इसके साथ ही बीजेपी नेता संगीत सोम ने कहा, 'अभी तो बहुत शहरों के नाम बदले जाने हैं.. मुजफ्फरनगर का नाम बदला जाना है.. मुजफ्फरनगर का नाम 'लक्ष्मीनगर' लोगों की पहली मांग है. मुजफ्फरनगर नाम एक नवाब मुजफ्फर अली ने किया था. लोगों की सदियों से डिमांड है कि इसका नाम लक्ष्मीनगर किया जाए.'

बता दें, उत्तर प्रदेश की सरकार के द्वारा कुछ महीने पहले ही मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर दीनदयाल उपाध्याय कर दिया गया था. वहीं दिवाली के मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया. 

वहीं अब गुजरात के अहमदाबाद के नाम को बदलने की तैयारी शुरू हो चुकी है. इस पूरे मामले पर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा था कि 'जनता लंबे समय से अहमदाबाद का नाम कर्णावती करने की मांग कर रही है. सरकार इस मांग पर विचार कर रही है. यह पता लगाने के लिए परामर्श शुरू कर दिया गया है कि क्या हम इसे कानूनन कर सकते हैं. परामर्श के बाद हम ठोस कदम उठाएंगे.'

जब उनसे पूछा गया था कि क्या यह काम लोकसभा चुनावों से पहले हो सकता है या बाद में होगा, तो उन्होंने कहा था, ‘‘चुनावों से पहले.’’ उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा था कि अहमदाबाद नाम ‘दासता का प्रतीक’ है और इसे बदला जाना जरूरी है.

वहीं दूसरी तरफ बीजेपी की राज्य सरकारों के द्वारा शहरों के नाम बदलने को लेकर विपक्षी पार्टिया जमकर हमला बोल रही है. हाल ही में आम आदमी पार्टी ने फैजाबाद का बदलने को लेकर CM योगी आदित्यनाथ पर हमला बोला था. उन्होंने कहा था कि 'योगी जी को पहले अपना नाम बदलकर अजय सिंह बिष्ट रखना चाहिए, अयोध्या तो पहले से ही विधानसभा थी, शहर था फिर ये ड्रामा क्यों? रामपुर का नाम वहां के नबाब ने मुस्तफबाद रख दिया था लेकिन जनता आज तक रामपुर ही कहती है, ऐसे तुगलकी फरमानों से जनता का करोड़ों रुपया बर्बाद होता है.'

DO NOT MISS