Politics

कुमारस्वामी सरकार पर मंडराए संकट के बादल, दो निर्दलीय विधायकों ने वापस लिया अपना समर्थन

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

कर्नाटक में जेडीएस - कांग्रेस के गठबंधन वाली सरकार को पूरे हुए 7 महीने भी नहीं हुए है. लेकिन सियासी संकट के बादल कुमारस्वामी के अगुवाई वाली सरकार पर मंडराने लगे है. रिपब्लिक टीवी के सूत्रों के अनुसार कर्नाटक में दो निर्दलिय विधायक ने जेडीएस - कांग्रेस गठबंधन वाली कुमारवस्वामी सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है. 

 दो निर्दलीय विधायक आर शंकर और एच नागेश  कुमारस्वामी सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है. उन्होंने राज्यपाल को चिट्ठी लिख कर इसकी जानकारी दे दी है. 

वहीं खबर है कि कांग्रेस के 5 विधायक गायब है. कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी ऑपरेशन लोटस के तहत सरकार गिराने की कोशिश कर रही है. इसपर राज्य बीजेपी के प्रमुख बीएस योदियुरपा ने इन खबरो को खारिज कर दिया कि सरकार गिराने के लिये उनकी पार्टी 'ऑपरेशन कमल' में लगी हुई है. 

वहीं बीजेपी ने भी अपने सभी 104 विधायकों को दिल्ली से सटे गुरुग्राम के होटल में शिफ्ट कर दिया है. वहीं कर्नाटक बीजेपी के सीनियर नेता येदियुरप्पा का दिल्ली में बड़े नेताओं के साथ बैठकों का दौर जारी  है. 

जानकारी के मुताबिक कांग्रेस के 5 विधायकों ने मुंबई में डेरा डाला लिया है. वहीं एक वीडियो सामने आया है जिसमें बीजेपी के पूर्व विधायक मुंबई के होटल में बागी कांग्रेस के  विधायकों से मिलने जाते नजर आए . 

इधर डर बीजेपी को भी है कि कहीं कांग्रेस उन्हीं के खेमें में सेंधमारी न कर दे. यही वजह है कि बीजेपी ने अपने विधायकों को गुरुग्राम शिफ्ट कर दिया है. दिल्ली आए कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा बीएस येदियुरप्पा ने कांग्रेस पर जोड़ - तोड़ का आरोप लगाया और कहा कि वो उनके कुछ विधायकों को मंत्री पद और दूसरी चीजों का लालच दे रहे हैं. 

कर्नाटक में कुल 225 विधानसभा सीटें हैं जिनमें से स्पीकर समेत कांग्रेस के पास 80 विधायक हैं. वहीं कुमारस्वामी की जेडीएस के पास 37 विधायक हैं. बीजेपी चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी लेकिन उसके खाते में 104 विधायक ही आ पाए थे. बीजेपी बहुमत का आंकड़ा न पाने की वजह से सरकार बनाने में विफल रही थी जबकि कांग्रेस ने अपने से कम विधायक पाने वाली जेडीएस को मुख्यमंत्री का पद दिया हैं.

DO NOT MISS