Politics

मंदिर और गाय हमारे लिए सांस्कृतिक जीवन का अभिन्न अंग : राजनाथ सिंह

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को कहा कि कांग्रेस के नेता मंदिर-मंदिर दौड़ लगाकर मंदिर और गाय को चुनावी मुद्दा बना रहे हैं, जबकि हमारे लिये मंदिर और गाय चुनावी पैंतरा न होकर, सांस्कृतिक जीवन का अभिन्न अंग हैं .

राजनाथ ने कहा, ‘‘कांग्रेस के नेता अब मंदिर मंदिर दौड़ लगा रहे हैं, क्योंकि कांग्रेस जानती है कि वह अपने बलबूते पर कुछ भी हासिल नहीं कर सकती.  इसलिए कांग्रेसी अब भगवान के आगे घुटने टेकने का काम कर रहे हैं.  हताश कांग्रेस कभी गाय का पैर पकड़ती है, तो कभी पूंछ पकड़कर गौशाला बनवाने की बात कर रही है. ’’ 

वह आज सागर, मुरैना और ग्वालियर में चुनावी सभाओं को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस मंदिर और गाय को चुनावी मुद्दा बना रही है, जबकि हमारे लिए मंदिर और गाय चुनावी स्टंट न होकर, सांस्कृतिक जीवन का अभिन्न अंग है.’’ 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को अगले मुख्यमंत्री के तौर पर प्रदेश की जनता की पहली पसंद बताते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस को साधारण परिवार में जन्मे शिवराज का चेहरा पंसद नहीं आता.

राजनाथ ने कांग्रेस को घेरते हुए कहा कि इतना समय बीतने के बाद भी कांग्रेस अपना नेता तय नहीं कर पाई, जबकि हमने डंके की चोट पर शिवराज सिंह चौहान को मध्य प्रदेश में भाजपा का अगला मुख्यमंत्री तय किया है.  कांग्रेस में कोई छिंदवाड़ा से मुख्यमंत्री बनने की ताल ठोक रहा है, तो कोई गुना से ताल ठोक रहा है.  राघौगढ़ से भी मुख्यमंत्री बनने की ताल ठोकी जा रही है.कांग्रेस ‘मध्य प्रदेश में कौन बनेगा सीएम’ कार्यक्रम चला रही हैं. 

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस नेताओं को यह पता है कि अगर उन्होंने अपना नेता तय कर लिया, तो कांग्रेस खंड-खंड हो जायेगी . ’’ 

पूर्व भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि इस बार भाजपा मध्य प्रदेश में चौका मारने जा रही है. मुख्यमंत्री चौहान सुशासन की पिच पर बल्लेबाजी कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘ शिवराज को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री रहते 14 वर्ष हो चुके हैं, लेकिन अंहकार उन्हें छू तक नहीं पाया है.’’ 

राजनाथ ने कहा कि 2003 के चुनाव में जब मैं मध्य प्रदेश आया था, मध्य प्रदेश बीमारू राज्य था.  दिग्गी युग में अंधेरा था.  आज घर-घर में रोशनी है. कांग्रेस के समय कृषि विकास दर तीन प्रतिशत हुआ करती थी, जो आज शिवराज के प्रयासों से 20 प्रतिशत के करीब पहुंच चुकी है. 

उन्होंने कहा, ‘‘2003 में प्रति व्यक्ति आय 15 हजार हुआ करती थी, जो आज 80 हजार रूपए तक पहुंच चुकी है. वहीं सकल घरेलू उत्पादन एक लाख करोड़ हुआ करता था, जिसे मुख्यमंत्री चौहान ने सात गुना तक बढ़ाने की कामयाबी हासिल की.’’ 

हाल ही में वायरल हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के वीडियो पर राजनाथ ने कहा कि कांग्रेस के नेता बंद कमरों में मुस्लिम वोटों की बात करते हैं. जातिगत आधार पर समाज को बांटने का काम कांग्रेस कर रही है. हमें कांग्रेस के हथकंडों से सजग रहना होगा .

उन्होंने कहा कि चुनाव जातिगत और वर्ग के आधार पर न होकर इंसाफ और इंसानियत के आधार पर होना चाहिए। भाजपा सरकार ने बिना भेदभाव के ‘‘सबका साथ सबका विकास’’ के मूलमंत्र को साकार किया है.

इनपुट - भाषा से )
 

DO NOT MISS