Politics

तीसरा मोर्चा बनाने की तैयारी में जुटे मुख्यमंत्री KCR, रणनीति के लिए पहुंचे दिल्ली

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

भारतीय जनता पार्टी और इंडियन नेशनल कांग्रेस की गैरमौजूदगी वाले क्षेत्रीय दलों का गठजोड़ बनाने की कवायद को आगे बढ़ाने के लिए तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के अध्यक्ष और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव दिल्ली पहुंच गए हैं.

इस दौरान उनकी समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी सहित समान विचारधारा वाले अन्य दलों के नेताओं से मिलने की प्लानिंग है. अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर सीएम के चंद्रशेखर राव ने सोमवार को कोलकाता में तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और रविवार को ओडिशा के मुख्यमंत्री एवं बीजू जनता दल (बीजेडी) के अध्यक्ष नवीन पटनायक से मुलाकात की थी.

तेलंगाना राष्ट्र समिति के सूत्रों ने सोमवार रात दिल्ली पहुंचे राव के तीन दिन के दिल्ली प्रवास के दौरान समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव और बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती के साथ मुलाकात की संभावना से इंकार नहीं किया. हालांकि मंगलवार को उनकी अखिलेश और मायावती से मुलाकात की अटकलों के बीच सपा और बसपा की ओर से फिलहाल राव द्वारा मुलाकात के लिए समय नहीं मांगे जाने की जानकारी दी गई.

बसपा के एक नेता ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष मायावती भी दिल्ली में ही हैं, लेकिन CM के. चंद्रशेखर राव के साथ उनकी मुलाकात का वक्त अभी तय नहीं है. वहीं सपा के प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने बताया कि अखिलेश यादव लखनऊ में हैं और उनके दिल्ली जाने का फिलहाल कोई कार्यक्रम तय नहीं हुआ है.

बता दें, तेलंगाना के विधानसभा चुनाव में टीआरएस की शानदार जीत के बलबूते दोबारा मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार दिल्ली आए राव का बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शिष्टाचार भेंट करने का कार्यक्रम है.

इसे भी पढ़ें - National Approval Ratings | तेलंगाना में अगर आज हुए लोकसभा चुनाव तो NDA और UPA की खाली रह जाएगी झोली

तेलंगाना के सीएम राव ने बनर्जी से मुलाकात के बाद कहा था कि वो गैर-भाजपा और गैर-कांग्रेस गठबंधन के लिए विभिन्न दलों के साथ बातचीत का सिलसिला जारी रखेंगे. इसके साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि अगले साल होने वाले लोकसभा चुनावों के लिए वे बहुत जल्द ही एक ठोस योजना के साथ आएंगे. 

गौरतलब है कि हाल ही में हुए पांच राज्यों के चुनाव में से एक प्रदेश तेलंगाना भी था. जहां बीजेपी और कांग्रेस को करारी मात देकर टीआरएस ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी.

(इनपुट : भाषा)

DO NOT MISS