Politics

स्वाती मालीवाल बोलीं, 'CCTV कैमरे की वजह से लोगों को अपराध करते हुए डर लगता है'

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा है कि 'CCTV कैमरे की वजह से लोगों को अपराध करते हुए डर लगता है' उन्होंने कहा कि सीसीटीवी सार्वजनिक परिवहनों में महिला यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए लगाया जाना चाहिए. दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘सीसीटीवी लोगों को कुछ गलत नहीं करने को लेकर भय पैदा करता है जिसका इस्तेमाल महिला सुरक्षा के लिए सार्वजनिक परिवहनों खास तौर पर बसों में किया जा सकता है.' 

इस साल जून में दिल्ली सरकार ने शहर में चलने वाले सभी डीटीसी और क्लस्टर बसों में सीसीटीवी कैमरे लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी. दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था, ‘‘ मंत्रिमंडल ने परिवहन विभाग द्वारा डीटीसी को इस संबंध में निविदा जारी करने और केंद्र सरकार की ओर से मुहैया कराये जाने वाले निर्भया कोष का इस्तेमाल 6,350 डीटीसी और क्लस्टर बसों में सीसीटीवी लगाने में करने के लिए एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर करने की अनुमति दे दी थी.' 

हालांकि महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने कहा था कि दिल्ली सरकार द्वारा बसों में सीसीटीवी कैमरा लगाने के कदम का महिलाओं के साथ बसों में छेड़छाड़ रोकने पर कोई असर नहीं पड़ेगा और यह धन की बर्बादी है. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि केंद्र सरकार को इस निर्भया कोष को राज्यों में वितरित करना चाहिए और महिलाओं की सुरक्षा के लिए उसका इस्तेमाल करने को कहा जाना चाहिए. 

इसे भी पढ़ें : ‘सुप्रीम कोर्ट का फैसला अवैध संबंध के लिए लोगों को लाइसेंस देगा’: स्वाती मालीवाल

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने अपने चुनावी वादों में बड़े पैमाने पर CCTV कैमरे को लगाने की बात कही थी. दिल्ली के कुछ इलाकों में CCTV कैमरा लगाए भी गए हैं लेकिन अभी भी कई ऐसे इलाके हैं जहां पर CCTV कैमरे को लगाने की आवश्यकता है.

बता दें, इससे पहले दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल ने 'अडल्टरी' पर दिए गए सुप्रीम कोर्ट के फैसले को 'महिला विरोधी' बताया था. उन्होंने कहा था कि यह ‘अवैध संबंधों’ के लिए लोगों को लाइसेंस प्रदान करेगा.

DO NOT MISS