Politics

गुजरात में हिंदी भाषियों को सुरक्षा देने में विफल रही रूपाणी सरकार इस्तीफा दे: शरद यादव

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

वरिष्ठ समाजवादी नेता शरद यादव ने गुजरात में उत्तर भारतीय लोगों पर हो रहे हमले की निंदा करते हुए इसे राज्य की भाजपा सरकार की नाकामी बताया है. उन्होंने कहा कि हिंदी भाषियों को गुजरात में सुरक्षा दे पाने में विफल रहे राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी को तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए. शरद यादव ने मंगलवार को एक बयान में कहा “गुजरात सरकार अपने ही देश के नागरिकों को विशेष रूप से हिंदीभाषी लोगों को सुरक्षा देने में विफल रही है, अतः इस सरकार को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए.” 

उन्होंने कहा कि यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है कि बिहार, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों के श्रमिक वहां से पलायन करने पर विवश हैं. वो भी ऐसे श्रमिक जो बीते कई वर्षों से गुजरात को अपनी सेवाएं देते आ रहे थे. यादव ने कहा ‘‘हैरानी की बात यह है कि केंद्र तथा राज्य में भाजपा की सरकारें हैं फिर भी अन्य राज्यों के श्रमिक सुरक्षित नहीं हैं.’’ 

उन्होंने गुजरात में भाजपा सरकार पर दलितों और अल्पसंख्यकों की सुरक्षा हमेशा ताक पर रखने का आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य से श्रमिकों के पलायन से पता चलता है कि भाजपा सरकार गरीब तथा समाज के वंचित तबके के लोगों के प्रति सवेदनशील नहीं है. यादव ने इसे देश में आपसी सौहार्द को बिगाड़ने तथा समाज को विभाजित करने का प्रयास करार देते हुए इस प्रवृत्ति को लोकतंत्र के लिए खतरनाक बताया.

बता दें, गुजरात से हो रहे उत्तर भारतीयों के पलायन के मुद्दे पर ठाकोर सेना के मुखिया और कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर ने रिपब्लिक टीवी से बात करते हुए अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को सिरे से नकार दिया है. बता दें, अल्पेश ठाकोर की 'ठाकोर सेना' पर उत्तर भारतीय लोगों को गुजरात से बाहर भगाने का आरोप लगा है. कुछ दिन पहले ही गुजरात के साबरकांठा में 14 महीने की बच्ची के साथ रेप हुआ था उसके बाद से ही गुजरात में उत्तर भारतीय लोगों को निशाना बनाया जा रहा है. अल्पेश ठाकोर पर लोगों को भड़काने का भी आरोप लगा है.

बता दें, अभी तक गुजरात से लगभग 13 हजार लोग पलायन कर चुके हैं. वहीं गुजरात सरकार का कहना है कि वो इस पूरे मामले पर नजर बनाए हुए है. जो लोग दोषी होंगे उन्हें सजा जरूर मिलेगी.

DO NOT MISS