Politics

मोदी और पुतिन ने जारी किया साझा बयान, कहा - हम समंदर से अंतरिक्ष तक एक साथ

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच बातचीत के बाद भारत, रूस ने आठ समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं. इसके बाद साझा बयान जारी करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि रूस के साथ भारत के गहरे संबंध हैं. उन्होंने कहा कि इस मुलाकात में हम कई और मुद्दों पर चर्चा कर सके.पीएम मोदी ने कहा कि रूस के साथ साझेदारी को नई दिशा मिली.

पीएम मोदी ने कहा कि रूस और भारत अंतरिक्ष अभियान में साथ होंगे.  उन्होंने कहा कि हमारे संबंधों को नई उर्जा मिली है.  पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद और पर्यावरण सरीखे मुद्दों पर एक साथ खड़े हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि , मानव संसाधन विकास से प्राकृतिक संसाधनों तक, व्यापार से लेकर निवेश तक , नाभिकीय ऊर्जा के शान्तिपूर्ण सहयोग से लेकर सौर ऊर्जा तक, तकनीकी से लेकर टाइगर कन्ज़र्वेशन तक,सागर से लेकर अंन्तरिक्ष तक, भारत और रूस के सम्बन्धों का और भी विशाल विस्तार होगा.

पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद के विरूद्ध संघर्ष, अफगानिस्तान और भारत प्रशांत के घटनाक्रम, जलवायु परिवर्तन, एससीओ, ब्रिक्स जैसे संगठन और जी 20 और आसियान संगठन संगठनों में सहयोग करने के लिए हमारे दोनों देशों के साझा हित हैं. हम अंतरराष्ट्रीय संस्थानों में अपने लाभप्रद सहयोग को जारी रखने पर सहमत हैं. 


पीएम मोदी ने कहा दोनों देशों के लोगों के बीच आपसी कॉन्टैक्स बढ़ाने के लिए आज हमने कदम उठाए हैं,भारत और रूस की मैत्री काफी पुरानी है. हम थोड़ी देर में भारत - रूस के संयुक्ता बिजनस समिट में हिस्सा लेंगे. 

साझा बयान में पीएम मोदी ने भारत के मिशन गगनयान के लिए रूस ने पूरे सहयोग का आश्वसान दिया है,मुझे इसकी बेहद खुशी है. 

वहीं भार के साथ समझौतों पर रुसी राष्ट्रपति पुतिन ने कहा , मैं भारतीय पीएम को भारत - रूस के बीच इस तरह के महत्वपर्ण मुद्दों पर  द्विपक्षीय बातचीत के आयोजन के लिए धन्यवाद देता हूं. 
इस दोस्ती से रूस काफी खुश हैं , मैं पीएम मोदी को रूस आने का आमंत्रण देता हूं. 

पुतिन ने कहा भारत के साथ हमारा पुराना और मजबूत रिश्ता है. मैं भारतीय कंपनियों को रूस में कारोबार करने के लिए आमंत्रित करता हूं. 

बता दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच बातचीत के बाद भारत, रूस ने आठ समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं. रूस और भारत ने अंतरिक्ष, परमाणु ऊर्जा, रेलवे समेत कई अन्य क्षेत्रों में समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं.

DO NOT MISS