Politics

राम मंदिर के लिए सरकार को अध्यादेश लाना चाहिए या कानून लागू करना चाहिए: RSS

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने अयोध्या में यथाशीघ्र राम मंदिर के निर्माण के लिए एक अध्यादेश लाने या कानून बनाने की मंगलवार को मांग की. साथ ही संघ ने कहा कि विवादित भूमि मामले की सुनवाई में विलंब करने का उच्चतम न्यायालय का फैसला हिंदू भावनाओं को “आहत” करता है. आरएसएस की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य इंद्रेश कुमार ने शीर्ष अदालत के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा, “उच्चतम न्यायालय ने मामले की सुनवाई अगले साल जनवरी तक के लिए टाल दी है. उनका कहना है कि उनकी अपनी कुछ प्राथमिकताएं हैं.''

इस बात पर कायम रहते हुए कि यह करोड़ों हिंदुओं की आस्था का मामला है और न्याय में “देरी’’ नहीं होनी चाहिए, कुमार ने पूछा, “तो हमें किससे उम्मीद रखनी चाहिए?’’ “राम जन्मभूमि से अन्याय क्यूं?”

इसके साथ ही इंद्रेश कुमार ने कहा, 'मैंने उनका नाम नहीं लिया क्योंकि 125 करोड़ भारतीय उनका नाम जानते हैं. सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की बेंच वहां पर थी.. उन्होंने इस मामले में देरी की.. उन्होंने अपमान किया.. ये उन्होंने अनुचित किया है.. सरकार एक कानून या अध्यादेश लाएगी और उन्हें ऐसा करना चाहिए लेकिन 11 दिसंबर तक आचार संहिता लागू है (पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के चलते). सरकार के हाथ तब तक बंधे हुए हैं.' 

बता दें, राम मंदिर पर जल्द से जल्द अध्यादेश लाने की बात RSS की तरफ से लगातार की जा रही है. इससे पहले RSS प्रमुख मोहन भागवत ने अध्यादेश लाने की बात की थी. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले की सुनवाई को जनवरी 2019 तक के लिए टाल दिया है. पहले ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि अयोध्या मामले पर 2019 लोकसभा चुनाव से पहले फैसला आ सकता है.

वहीं विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने रविवार को कहा था कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए समर्थन जुटाने के मद्देनजर संगठन छह दिसंबर तक हर लोकसभा क्षेत्र में सभाएं आयोजित करेगा. यहां एक रैली में उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए विहिप सांसदों से कानून बनाने की मांग करेगा. आलोक कुमार ने कहा कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मुद्दे को लेकर 1950 में जब से पहला मामला दर्ज हुआ तब से अब तक मामला चल ही रहा है.

गौरतलब है कि पिछले दिनों राम मंदिर मुद्दे को तेज करने के लिए शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे दो दिन के दौरे पर अयोध्या पहुंचे थे. उद्धव ठाकरे ने अयोध्या में राम मंदिर बनाने को लेकर केंद्र सरकार से अध्यादेश लाने की बात कही थी.

DO NOT MISS