Politics

महागठबंधन में शामिल होते ही उपेंद्र कुशवाहा बोले, 'बिहार में होगी पढ़ाई, दवाई और कमाई की व्यवस्था'

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

NDA से अलग होने के बाद उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी (RLSP) गुरुवार को औपचारिक रूप से UPA का हिस्सा बन गई है. इस दौरान कांग्रेस नेता अहमद पटेल, आरजेडी नेता तेजस्वी यादव, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी, शक्तिसिंह गोहिल समेत कई नेता मौजूद रहे. उपेंद्र कुशवाहा के यूपीए में शामिल होने के बाद महागठबंधन के कई दलों के नेताओं ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और भारतीय जनता पार्टी पर जोरदार हमला किया.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में सबसे पहले कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद अहमद पटेल ने बोलना शुरू किया. पटेल ने कुशवाहा का स्वागत किया. उन्होंने कहा, ''खुशी की बात ये है कि उपेंद्र कुशवाहा जी गठबंधन में शामिल हो रहे हैं.''

इसके बाद कांग्रेस प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने बोलना शुरू किया. उन्होंने कहा कि बिहार कांग्रेस के बड़े नेता अहमद पटेल जी, RLSP के मुखिया और केंद्र सरकार में मंत्री पद छोड़ कर हमारे UPA में शामिल हुए उपेंद्र कुशवाहा जी, बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, पूर्व जीतनराम मांझी जी और शरद यादव जी... मैं सबसे पहले आप सबके सामने ये बताना चाहता हूं कि उपेंद्र कुशवाहा जी का हम स्वागत करते हैं. ये विचारधारा से जुड़ा गठबंधन है. हमारा मेल एक विचारधारा है. हमें एकजुट होकर बिहार और राष्ट्र के हित में काम करना है.

इसके बाद शरद यादव ने कहा, ''ज्यादा नहीं कहना है. उपेंद्र जी का आज महागठबंधन में शामिल होना और बहुत दिन से सभी को इंतजार था आज फाइनल फैसला हो गया. जिस दौर से देश गुजर रहा है. इसे देख एकता के अभियान के क्रम में.. कुशवाहा जी के साथ और जो जो उन सभी का स्वागत करता हूं.''

इस दौरान बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने काफी आक्रामक अंदाज में दिखाई दिए.  आज महागठबंधन में उपेंद्र कुशवाहा जी जॉइन किए है. इसके लिए बधाई और धन्यवाद देता हूं. 

उन्होंने कहां, ''ये दलों का गठबंधन नहीं जनता के दिलों का गठबंधन है. देश को बचाने का अभियान है लड़ाई है. CBI, IT जैसे देश के संस्थानों को बचाने की लड़ाई है और उन लोगों (बीजेपी सरकार) से बचाने की लड़ाई है...''

तेजस्वी ने इस दौर को ''अघोषित इमरजेंसी'' करार दिया. बिहार की NDA सरकार को लेकर भी तेजस्वी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर करारा हमला किया. नीतीश कुमार के खिलाफ ज़हर उगलते हुए तेजस्वी ने कहा, 'चाचा नीतीश कुमार जी ने मेंडेट का हत्या करने का अपराध किया है.'

तेजस्वी ने प्रधानमंत्री के पुराने भाषण का हवाला देते हुए कहा कि मोदी जी ने बिहार की बोली लगाई थी. वो दिया क्या? उन्होंने कहा था कि कितना चाहिए.. 70 हजार करोड़ रूपए दे दूं, 80 हजार करोड़ दूं.. चलो 125 हजार करोड़ दे देता हूं. चाचा नीतीश को कितना दे दिया. ये बताना चाहिए.'' उन्होंने बिहार को ठगने का काम किया.

उन्होंने कहा, ''बिहार को आगे बढ़ाना लक्ष्य है अगर बिहार आगे नहीं बढ़ेगा तो देश आगे नहीं बढ़ेगा. देश में सबसे बड़ा खतरा जो है. संविधान ही नहीं रहेगा तो कुछ नहीं रहेगा. हम ठगों के गठबंधन को करारा जवाब देने का काम करेंगे. जनता ने मूड बना लिया है कि जिन्होंने ठगने के काम किया है. उन सभी लोगों को करारा जवाब देने का काम करेंगे''

वहीं इस दौरान महागठबंधन में शामिल हुए उपेंद्र कुशवाहा ने कहा,  'UPA की सरकार में बिहार में पढ़ाई, दवाई और कमाई की व्यवस्था होगी. इसके लिए सड़क से सदन तक संघर्ष करते रहें हैं, और आगे भी करते रहेंगे'

NDA से अलग होने के बाद से ही इसकी संभावना थी कि वो बिहार में आगामी लोकसभा चुनाव कांग्रेस, RJD और जीतनराम मांझी की पार्टी ‘हम’ के साथ मिलकर लड़ सकते हैं. कुछ दिनों पहले ही कुशवाहा ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल से मुलाकात भी की थी.

DO NOT MISS