Politics

सियासी दांवपेंच के बीच अखिलेश यादव से मिले जयंत चौधरी,.. कहा- 'लड़ाई मैं की नहीं,.. हम की है'

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

उत्तर प्रदेश की सियासत में समाजवादी पार्टी और और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन के बाद दांव-पेंच का दौर तेज हो गया है. अखिलेश-मायावती ने गठबंधन करके 38-38 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान किया था. इसके बाद हर कोई इस असमंजस में था कि क्या RLD इतने कम सीटों पर संतुष्ट करेगी. इस मसले को लेकर  RLD उपाध्यक्ष जयंत चौधरी और सपा प्रमुख अखिलेश यादव की लखनऊ में मुलाकात की.

सपा अध्यक्ष से मुलाकात के बाद जयंत चौधरी ने कहा, ''अखिलेश जी से बहुत अच्छी बातचीत हुई. और जो इससे पूर्व हमने बैठकर बातचीत करी थी. उन बातों को हमने और आगे बढ़ाया है. मुझे विश्वास है कि प्रभावी गठबंधन भारतीय जनता पार्टी के किसान विरोधी नीतियों का विरोध पूरे देश में खड़ा होगा. यूपी में हमने अच्छी शुरुआत की है.''

बताया जा रहा है कि बैठक के बाद अखिलेश यादव और जयंत चौधरी मायावती से मिलने भी जाएंगे. 

सीटों के मसले पर क्या बोले जयंत चौधरी...

उन्होंने कहा सीटों का मसला ही नहीं है. सवाल विश्वास का है, सवाल रिश्ते का है और दोनों बहुत मजबूत है. 

इस दौरान मीडिया ने जयंत से पूछा कि क्या आगामी लोकसभा चुनाव भी उपचुनाव के फॉर्मूले पर होगा?

इसके जवाब में चौधरी ने कहा, ''कैराना में हमने एक - दूसरे के साथ तालमेल बनाया, वो सफल तालमेल साबित हुआ. बहुत लचीलापन को अपनाया. हमने ये नहीं देखा कि ये हमारा है वो हमारा है. लड़ाई मैं की नहीं,.. लड़ाई हम की है. लड़ाई हमारी है, हम मिलकर लड़ेंगे.''

बता दें, यूपी की राजधानी लखनऊ में साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती ने सीटों के बंटवारे पर से सस्पेंस खत्म कर दिया था

बसपा सुप्रीमो मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस में सपा और बसपा दोनों दलों के लिए कुल 80 सीटों में 38-38 सीटें लड़ने का ऐलान किया बाक़ी 2 सीटें सहयोगी दलों और अमेठी और रायबरेली की सीटें कांग्रेस के लिए छोड़ने की बात कही थी. 

वहीं इस मीडिया वार्ता में अखिलेश ने कहा था, 'मायावती का सम्मान मेरा सम्मान है . अगर भाजपा का कोई नेता मायावती का अपमान करता है तो सपा कार्यकर्ता समझ लें कि वह मायावती का नहीं बल्कि मेरा अपमान है .'

इसे भी पढ़ें - लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में 38-38 सीटों पर लड़ेंगे सपा-बसपा

फिलहाल जयंत चौधरी के बयान से ये तो साफ हो गया कि उन्होंने इस गठबंधन के साथ बिना शर्त के जुड़ने का पूरा मूड बना लिया है.

DO NOT MISS