Politics

राम मंदिर के लिए मस्जिद शिफ्ट करने का सुझाव देने वाले मौलाना नदवी को AIMPLB ने दिखाया बाहर का रास्ता

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

अयोध्या के बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद पर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) के रुख पर नरमी के संकेत देने वाले बोर्ड के सदस्य मौलाना सैय्यद नदवी को बाहर का रास्ता दिखा दिया है. AIMPLB के सदस्य कासिम इलियास ने कहा है कि AIMPLB अपने पिछले रुख पर कायम है. उन्होंने आगे कहा कि मस्जिद भेंट, बेची या स्थानांतरित नहीं की जा सकती है. चूंकि सैय्यद नदवी सर्वमत स्टैंड के खिलाफ गए हैं इसलिए उन्हें बर्खास्त कर दिया गया है. 

बता दें, इससे पहले रिपब्लिक टीवी के एक EXCLUSIVE वीडियो में श्री श्री रविशंकर और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के अहम सदस्य के बीच मीटिंग का एक वीडियो सामने आया था. जिसमें अयोध्या मामले में आउट ऑफ कोर्ट सेटलमेंट के रूप में सलमान नदवी जो AIMPLB के एग्जीक्यूटिव मेंबर थे वो लंबे समय से चल रहे अयोध्या मामले पर शांतिपूर्ण समाधान को लेकर बात कर रहे थे.

उस वीडियो में श्री श्री रविशंकर, सलमान नदवी की बातों को ध्यान से सुनते हुए दिखाई दे रहे थे और साथ ही मुस्कुरा भी रहे थे. बता दें, नदवी के उस वीडियो के बाद अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की दिशा में सकारात्मक संकेत के तौर पर देखा गया था. लेकिन अब AIMPLB ने नदवी को उनके पद से बर्खास्त कर दिया है.

इससे पहले आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा था कि अयोध्या मुद्दे पर उसके रुख में कोई बदलाव नहीं है क्योंकि ‘‘जब एक बार मस्जिद बनती है तो अनंत काल तक यह मस्जिद रहती है.’’

इस मामले पर ओवैसी ने कहा था, ‘‘बाबरी मस्जिद के बारे में, यह स्पष्ट रूप से कहा गया कि एक बार जब मस्जिद बन जाती है तो अनंतकाल तक यह मस्जिद रहती है. कोई समझौता नहीं होगा. जहां तक बाबरी मस्जिद की बात है, मस्जिद मुद्दे पर समझौता करने वाले लोग अल्ला के सामने जवाबदेह होंगे.’’ 

DO NOT MISS