Politics

राहुल गांधी बोले, प्रधानमंत्री अब भाषणों में भ्रष्टाचार, किसान और रोजगार जैसे मुद्दों का जिक्र नहीं करते ..

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि पूरा देश समझता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झूठ बोलते हैं. 2014 के चुनावों से पहले वह अपने प्रत्येक भाषण में किसान, भ्रष्टाचार और रोजगार जैसे मुद्दों पर बात करते थे लेकिन अब इन मुद्दों पर चुप रहते हैं. विदिशा जिले के गंज बासौदा में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा, ‘‘मोदी जी चुनाव से पहले हर भाषण में किसानों, भ्रष्टाचार, रोजगार की बात करते थे. अब उनके भाषण सुनिए, वह किसान, भ्रष्टाचार, रोजगार की बात नहीं करते हैं. पूरा देश समझता है कि नरेंद्र मोदी जी झूठ बोलते हैं.’’ 

उन्होंने कहा कि मोदी जी ने प्रधानमंत्री बनने से पहले दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने, किसानों का कर्ज माफ करने, बोनस और कृषि उत्पादों के लिए बेहतर कीमत का वादा किया था. राहुल गांधी ने कहा, ‘‘मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि इन वादों को पूरा क्यों नहीं किया गया.’’ 

उन्होंने कहा कि मैंने मोदी जी से सवाल किया था, ‘‘मोदी जी अगर देश के 15 बड़े अमीर लोगों का 3.5 लाख करोड़ रुपए माफ कर सकते हैं तो किसान का कर्ज क्यों नहीं माफ कर सकते. लेकिन मोदी खामोश रहे और मुझे कोई जवाब नहीं दिया.’’ 

राहुल गांधी ने मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने का दावा करते हुए कहा कि पार्टी के सत्ता में आने के 10 दिन के भीतर किसानों का कर्ज माफ किया जाएगा. उन्होंने कहा कि पांच चुनावी राज्यों मध्यप्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में बेरोजगारी और किसानों की परेशानी मुख्य मुद्दा हैं. उन्होंने कहा कि चीन में रोज 50,000 युवाओं को रोजगार मिलता हैं जबकि मेक इन इंडिया, कौशल विकास जैसी केंद्र की कई योजनाओं के बाद भी हमारे देश में रोजाना केवल 450 युवाओं को रोजगार मिल पाता है.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिजोरम में एक रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस पार्टी पर जमकर हमला बोला है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रैली में कहा था, 'कांग्रेस का इतने सालों का शासन गवाह है कि इसके लिए आपकी भावनाएं.. आपकी उम्मीदें..  आपकी आकांक्षाएं कोई मायने नहीं रखती.. कांग्रेस को जमीन पर जंगलों के बीच एक भारत की असली विरासत से भी कोई सरोकार नहीं है. कांग्रेस के लिए प्राथमिकता आप लोग नहीं  .. मिजोरम के लोग नहीं.. बल्कि सरकार की कुर्सी है जिसे बचाने के लिए वो लोगों को तरह-तरह के डर दिखाती है.'

DO NOT MISS