Politics

भारत के 'टुकड़े-टुकड़े' करने की खालिस्तानी प्लान पर बोले CM अमरिंदर सिंह- 'पंजाब का माहौल बिगड़ने नहीं देंगे'

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

रिपब्लिक टीवी के स्टिंग ऑपरेशन पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि ''हमें इससे कोई लेना देना नहीं है कि वो विदेश में क्या कर रहे हैं. चाहे वो कनाडा, UK या फिर कहीं हो हमें उससे मतलब नहीं है लेकिन मैं कह सकता हूं कि हम पंजाब का माहौल बिगड़ने नहीं देंगे. पंजाब में शांति बरकरार रहेगी और अगर किसी ने शांति भंग करने की कोशिश की तो हम उसे सबक सिखाएंगे. जहां तक राजनीतिक पार्टियों को चंदा देने का मामला है .. इनकम टैक्स इस पूरे मामले की जांच करेगी. 

इसके साथ ही कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, ''हमारी तरफ से चंदे के मामले में जांच जारी है. हम इस मामले की जांच कर रहे हैं कि पैसा कहा से आ रहा है. हमारे पास इस बारे में कई अहम जानकारियां हैं जिसे हम इस पूरे मामले की जांच कर रही एजेंसी को बताएंगे.''

पंजाब के CM ने कहा, 'ये देश के बाहर का मामला है, इन मामलों को राष्ट्रीय एजेंसी देखती है. इस मामले की हमें जो भी डिटेल पता लगती है हम उसे एजेंसियों से साझा करते हैं.' 

बता दें, पिछले दिनों पंजाब और उसके आसपास हो रही राजनीतिक हत्या और भारत के टुकड़े- टुकड़े करने की साजिश को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है. टीवी के इतिहास में पहली बार खालिस्तान समर्थकों ने माना है कि उनकी इस खालिस्तान मूवमेंट को पाकिस्तान और चीन का समर्थन हासिल है.

रिपब्लिक टीवी के सीनियर एडिटर Shawan Sen ने ब्रिटेन की राजधानी में इन खालिस्तानी समर्थकों का स्टिंग किया है. फ्रंट फॉर खालिस्तान ग्रुप्स की इकाई नेशनल सिख यूथ फेडरेशन के सदस्य शमशेर सिंह ने स्टिंग में कई अहम खुलासे किए हैं. आरएसएस के नेताओं की हत्या को लेकर जब सवाल किया गया तो शमशेर सिंह ने कहा आरएसएस नेताओं की हत्या मोटरसाइकिल सवार हमलावरों द्वारा की गई थी और यह सच है. KLF यह मानती है कि उसने ही RSS नेताओं की हत्या की है. इसके साथ ही खालिस्तान समर्थकों ने कहा, 'हम भारत को टुकड़ों में बांटना चाहते हैं. पाकिस्तान हमारा 100 प्रतिशत सहयोगी है. हमारी दुश्मन दिल्ली है और हम दिल्ली को गिराना चाहते हैं.

प्रतिबंधित दल खालसा के सदस्य गुरचरण सिंह ने कहा कि उन्होंने भारत के कई हिस्सों में दलों के साथ गठबंधन किया है, "नीति में परिवर्तन का मतलब यह होगा कि हम सबकुछ करने के बजाय दूसरों को करने दें. उन्हें वित्त पोषित करें, उन्हें फंड दें. कश्मीरियों को माओवादियों.. हमारे लोगों का भारत के हर राज्य में लिंक है. हम उन्हें सीधा भारत में हर आतंकवादी गंतविधियों में शामिल होने के लिए पैसे देते हैं."

DO NOT MISS