Politics

इमरान ने कैबिनेट मंत्री बोले- बाजवा ने सिद्धू को गले लगाकर भारत की विदेश नीती को किया 'नेस्तनाबूद'

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

बीतें दिनों में भारत और पाकिस्तान  के बीच काफी कुछ ऐसा हुआ जो सुर्खियों में छाया रहा. पहला इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में पंजाब के मंत्री और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू का शामिल होना और उसमें सिद्धू द्वारा पाक सेना प्रमुख जनरल बजाव को गले लगाने वाली घटना. जिस पर काफी विवाद भी हुआ. 

दूसरा सिखों के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक करतारपुर कॉरिडोर पर दोनों देश द्वारा एक साथ हामी भरना और उद्घाटन समारोह में भारतीय मंत्रियों का पाक जाना... ये सब बताने के लिए काफी है अनौपचारिक रूप से ही सही लेकिन दोनों देश एक- दूसरे के साथ मंच साझा करने के लिए तैयार हुए. 

लेकिन पड़ोसी देश पाकिस्तान को लगाता है कि फिर से एक बार गलतफहमी का शिकार हो गया और उसे लगने लगा है कि ये उसकी भारत पर 'कूटनीतिक जीत' है. दरअसल पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख राशिद अहमद ने कहा कि करातापुर का सारा नफा- नुकसान को जनरल बजवा की एक झप्पी ने हिंदुस्तान की विदेशी नीति को नेस्तनाबूद कर दिया है.

एक चैनल की दिए इंटरव्यू में पाकिस्तानी राष्ट्रपति राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने कहा कि जीत तरह सिद्धू ने पाकिस्तान के साथ अमन की बात की है इससे मुझे लगाता है कि भारत के अमन को लेकर आवाज बुलंद होगी और करतारपुर कॉरिडोर की पहल करके हमने नई चाल चली है. 


बता दें, पिछले दिनों पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान सिद्धू द्वारा जनरल बजावा को गले लगाने को लेकर काफी विवाद हुआ था. भारतीय जनता पार्टी सहित कांग्रेस के कुछ नेताओं ने भी सिद्धू की आलोचना की थी. हालांकि सिद्धू ने अपनी गलती मानने से इनकार कर दिया था. 
 

वहीं भारत और पाकिस्तान सीमा के पास बनाने वाले करतारपुर कॉरिडोर के लिए दोनों देशों ने हामी भारी थी जिसके बाद  पाकिस्तान की ओर से प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को एक भव्य समारोह में इस करतारपुर कॉरिडोर की नींव रखीं जिसमें केंद्रीय मंत्रियों हरसिमरत कौर बादल और हरदीप पुरी शामिल हुए थे. 

दूसरी ओर पंजाब के गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक में करतारपुर कोरिडोर की नींव सोमवार को उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने रखी थी .

DO NOT MISS