Politics

EVM पर विपक्ष ने उठाए सवाल, तो सीएम देवेंद्र फडणवीस बोले- वो हताश, निराश और दिशाहीन है'

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार को कहा कि उन्होंने राज्य के इतिहास में पहले कभी इतना ‘‘हताश, निराशा और दिशाहीन’’ विपक्ष नहीं देखा। फडणवीस ने यहां प्रेस कान्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि विपक्ष यह समझने में नाकाम है कि ईवीएम एक मशीन है और वह खुद मतदान नहीं कर सकती। 

उनका यह बयान महाराष्ट्र के कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष बालासाहब थोराट, मनसे प्रमुख राज ठाकरे, एनसीपी के अजित पवार और छगन भुजबल सहित विपक्षी नेताओं द्वारा चुनाव में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम)के इस्तेमाल और लोकसभा चुनाव के नतीजों को स्तब्ध करने वाला बताए जाने के एक दिन बाद आया है। 

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘भाजपा लोगों और मतदाताओं से संपर्क कर रही है, उनके पास पहुंच रही है, जबकि विपक्ष ईवीएम के साथ संवाद कर रहा है। विपक्ष यह समझ नहीं पा रहा है कि ईवीएम केवल मशीन है और स्वयं मतदान नहीं कर सकती है। मतदान मतदाता करते हैं और अगर हम उनसे संवाद करेंगे तो वोट मिलेंगे।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘मैं मानता हूं कि विपक्ष हताश, निराशा और पूरी तरह से दिशाहीन है। महाराष्ट्र ने अपने इतिहास में कभी ऐसा विपक्ष नहीं देखा।’’ 

फडणवीस ने कहा, ‘‘भाजपा आगामी विधानसभा चुनाव सहयोगी दलों के साथ मिल कर लड़ेगी। मैंने शिवसेना से कहा है कि पहले से तय फार्मूले के तहत हम पहले गठबंधन के सहयोगियों की सीटें तय करेंगे, फिर अन्य सीटों को आपस में बंटवारा करेंगे।’’ 

मुख्यमंत्री यहां एक महीने के ‘महा जनसंदेश यात्रा’ के तहत आए थे, जिसकी शुरुआत उन्होंने गुरुवार को की थी। अब यह यात्रा भंडारा और गोंदिया जिलों में जाएगी। 

इससे पहले नागपुर पुलिस ने मुख्यमंत्री की ‘महा जनसंदेश यात्रा’ के खिलाफ प्रदर्शन करने की योजना बना रहे कांग्रेस प्रवक्ता अतुल लोंढे को हिरासत में ले लिया। पुलिस की कार्रवाई का कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण ने निंदा करते हुए सवाल किया कि क्या मुख्यमंत्री से लोकहित से जुड़े सवाल करना अपराध है।

फडणवीस ने मामले पर टिप्पणी करते हुए कहा कि कानून व्यवस्था कायम रखना पुलिस की जिम्मेदारी है और वह उसी के अनुरूप कार्रवाई करती है। 

(इनपुट- भाषा)

DO NOT MISS