Politics

#MeToo: यौन शोषण के आरोपों से घिरे एमजे अकबर ने दिया अपना इस्तीफा: सूत्र

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर पर लगे यौन शोषण के कई आरोपों के बाद उनके इस्तीफे की मांग हर तरफ उठ रही है. वहीं अब इस पूरे मामले पर एमजे अकबर ने प्रधानमंत्री कार्यालय को चिट्ठी लिखते हुए अपना पक्ष रखा है. बता दें, सूत्रों की माने तो एमजे अकबर ने PMO को अपना इस्तीफा सौंप दिया है.

रविवार सुबह एमजे अकबर विदेश दौरे जब दिल्ली वापस लौटे तो मीडिया ने उनसे उनके इस्तीफे के बारे में सवाल पूछा था जिसपर अकबर ने चुप्पी साध ली थी. हालांकि उन्होंने ये जरूर कहा था कि वो इस पूरे मामले पर अपना स्टेटमेंट जारी करेंगे. बता दें, भारत में #MeToo मुहिम के तहत महिलाएं अपने ऊपर हुए शोषण के बारे में जिक्र कर रही हैं.

इसी सिलसिले में पत्रकार से नेता बने एमजे अकबर पर लगभग 13 महिलाओं ने यौन शोषण का आरोप लगाया है. बीजेपी के कई नेताओं ने भी अकबर से इस पूरे मामले पर सफाई देने की बात कही थी. वहीं कांग्रेस पार्टी ने भी अकबर के इस्तीफे की मांग की थी. 

बता दें, एमजे अकबर कई अखबारों और पत्रिकाओं में संपादक रह चुके है. साल 2017 में भी एक महिला पत्रकार ने बताया था कि उसने बॉस ने उन्हें होटल के कमरे में जॉब इंटरव्यू के लिए बुलाया था. प्रिया रमानी ने ट्वीट किया है कि एमजे अकबर ने होटल रूम में इंटरव्यू के दौरान कई महिला पत्रकारों के साथ आपत्तिजनक हरकतें की हैं. पत्रकार प्रिया रमानी ने अपने ट्विटर हैंडल पर एमजे अकबर का नाम लिखते हुए लिंक शेयर किया था.

बता दें, सुब्रमण्यम स्वामी ने तो इस पूरे मामले में प्रधानमंत्री से जवाब देने की भी मांग की थी. भाजपा ने संकेत दिया था कि स्वदेश लौटने के बाद अकबर द्वारा इस विषय पर अपनी स्थिति स्पष्ट करने के उपरांत पार्टी उन पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर कोई स्पष्ट रूख अपनाएगी.

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा था, 'देखिए मैं तो इसमें व्यक्तिगत क्या बोल सकता हूं.. उनपर आरोप लगे हैं बल्कि एक से नहीं अनेक से .. वो मंत्री हैं और उन्हें मंत्री बनाया है प्रधानमंत्री ने..मैं इसमें क्या बोलूंगा..मैंने पहले ही बोल दिया है कि मैं #MeToo मूवमेंट का समर्थन करता हूं..'

DO NOT MISS