Politics

SAARC सम्मेलन में शामिल होने से सुषमा स्वराज का इनकार, कहा- जब पाकिस्तान रोकेगा आतंकवाद तब करेंगे बात ..

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

करतारपुर मुद्दे पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मीडिया से बात करते हुए पाकिस्तान के साथ केंद्र सरकार का क्या स्टैंड है उसे साफ कर दिया है. बता दें, सुषमा स्वराज ने कहा है कि पाकिस्तान के साथ किसी तरह की बातचीत नहीं होगी. उन्होंने कहा, 'ये (करतारपुर कॉरिडोर) एक सकारात्मक कदम है लेकिन हम द्विपक्षीय बातचीत नहीं करेंगे..बातचीत और आतंकवाद एक साथ नहीं चल सकते .. हम सार्क सम्मेलन में हिस्सा नहीं लेंगे..'

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, 'जब पाकिस्तान आतंकवाद को रोकेगा उसके बाद ही द्विपक्षीय बातचीत संभव हो सकेगी.'

इसके साथ ही सुषमा स्वराज ने कहा, 'पंजाब के मुख्यमंत्री अपने पर्सनल रीजन पर मना नहीं कर रहे हैं.. जैसे मुझे 28 तारीख को यहां आना था.. इसलिए मैं 28 को नहीं जा सकी थी.. तो मेरा पर्सनल रीजन था.. मैंने अपने दो मंत्री भेजे..उनका पर्सनल रीजन​​​​​​​​​​​​​​ नहीं है.. उन्होंने चिट्ठी में कहा है कि आप पंजाब में आतंकी गतिविधियों​​​​​​​ को फैला रहे हैं.. और उन्होंने ये कहा है कि हफ्ते पहले जो एक हमला हुआ वो भी ISI ने करवाया.. ये उन्होंने आरोप लगाया. मुख्यमंत्री नहीं जा रहे हैं और मंत्री जा रहे हैं तो उन्होंने इस विवाद को खत्म करने का केवल एक रास्ता निकाला कि वो मंत्री के तौर पर नहीं जा रहे हैं वो पर्शनल तौर पर जा रहे हैं.' उन्होंने कहा, 'इसलिए मुझे कोई टिप्पणी नहीं करनी है .. अगर इसपर कुछ टिप्पणी करनी है तो वो कांग्रेस को करनी है या फिर उनके मुख्यमंत्री को करनी है.

सुषमा स्वराज ने कहा, 'मैं पहले भी पाकिस्तान जा चुकी हूं.. उनके साथ बातचीत कर चुकी हूं.. लेकिन फिर हुआ क्या? उसके बाद पठानकोट हुआ .. उरी हुआ.. मैं कहना चाहती हूं कि जब तक पाकिस्तान आतंकी गतिविधियां नहीं छोड़ देता तब तक हम उनके साथ बात नहीं करेंगे..'

इसके साथ ही सुषमा स्वराज ने महागठबंधन को लेकर कहा, 'अब जो पार्टियां एक साथ आ रही हैं.. उनकी कोई क्रेडिबिलिटी नहीं है.' बता दें, देश में बीजेपी के खिलाफ विपक्ष महागठबंधन बनाने में जुटा हुआ है. इसी को लेकर सुषमा स्वराज ने ये टिप्पणी की है.

दरअसल गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक से करतारपुर साहिब तक एक भव्य कॉरिडोर के निर्माण के लिए सोमवार को भारत ने आधारशिला रखी थी. भारत के बाद अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भी 28 नवंबर को सीमा के उस पार से करतारपुर गलियारे के निर्माण के लिए शिलान्यास करेंगे. इस कार्यक्रम में शिरकत करने के सिद्धू पाकिस्तान पहुंचे हैं. वहीं भारत की तरफ से हरसिमरत कौर और हरदीप सिंह पुरी इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहुंचे हैं.

DO NOT MISS