Politics

राहुल गांधी को PM उम्मीदवार बनाने के लिए DMK अध्यक्ष एम के स्टालिन ने की वकालत

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद सियासी गलियारों में राजनीतिक पारा और गरम हो गया है. जौसे-जैसे वक्त बीतता जा रहा है 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव का काउंट डाउन घटता जा रहा है. हर कोई आगामी चुनाव में अपने एड़ी चोटी का जोर लगाने में जुटा हुआ है. बीते चुनाव में मिली जीत के बाद कांग्रेस पार्टी की उम्मीद काफी बढ़ गई है. वहीं भारतीय जनता पार्टी 2014 में मिली ऐतिहासिक जीत को बरकरार रखने के लिए दंभ भर रही है.

इस बीच द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (DMK) के अध्यक्ष एम के स्टालिन ने साल 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को विपक्ष की ओर से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने की पुरजोर वकालत की है. उन्होंने कहा कि गांधी परिवार के वारिस राहुल गांधी में ‘‘फासीवादी ’’ नरेंद्र मोदी सरकार को परास्त करने की क्षमता है.

स्टालिन की ये अपील DMK की उसी परंपरा का हिस्सा है जब उनके पिता दिवंगत एम करूणानिधि ने नेतृत्व की कमान संभालने के लिए इंदिरा गांधी और सोनिया गांधी को आमंत्रित किया था. द्रमुक अध्यक्ष यहां एक रैली को संबोधित कर रहे थे जिसमें आंध्र प्रदेश और केरल के मुख्यमंत्रियों क्रमश: एन चंद्रबाबू नायडू और पी विजयन ने भी भाग लिया.

बीजेपी की अगुवाई वाले NDA से गंठबंधन तोड़ने के बाद से ही नायडू अगले संसदीय चुनाव के लिए बीजेपी विरोधी एक महागठबंधन बनाने के प्रयासों में लगे हैं.

स्टालिन ने बीते समय को याद करते हुए कहा कि दिवंगत इंदिरा गांधी के प्रति समर्थन जाहिर करते हुए करूणानिधि ने 1980 में ऐलान किया था,‘‘ पंडित नेहरू की बेटी का स्वागत है. एक स्थायी सरकार दें.’’ इसी प्रकार उन्होंने 2004 में सोनिया गांधी को यह कहते हुए निमंत्रित किया था, ‘‘इंदिरा गांधी की बहू का स्वागत है, भारत की बेटी जीतनी चाहिए.’’ 

स्टालिन ने कहा, ‘‘2018 में थैलाइवार कैलंगनार की प्रतिमा के अनावरण के मौके पर मैं प्रस्ताव करता हूं कि हमें दिल्ली में एक नया प्रधानमंत्री बनाना चाहिए. हम एक नया भारत बनाएंगे थैलाइवार कैलंगनार का बेटा होने के नाते मैं तमिलनाडु से राहुल गांधी की उम्मीदवारी का प्रस्ताव करता हूं.’’ 

बता दें, यहां अन्ना अरिवलयम में DMK के मुख्यालय पर करूणानिधि की कांस्य प्रतिमा का अनावरण किए जाने के बाद रैली का आयोजन किया गया था. इस समारोह में कांग्रेस संसदीय दल की नेता सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी मौजूद थे.

स्टालिन ने कहा, ‘‘राहुल में ‘फासीवादी नाजी’ मोदी सरकार को परास्त करने की क्षमता है. मैं मंच पर मौजूद सभी सम्मानित पार्टी नेताओं से अपील करता हूं. हम राहुल गांधी के हाथ मजबूत करेंगे, हम देश को बचाएंगे’’

(इनपुट : भाषा) 

DO NOT MISS