Politics

लेफ्ट नेता सीताराम येचुरी के बिगड़े बोल, प्रधानमंत्री को बताया 'पॉकेटमार'

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

दिल्ली के जंतर मंतर पर किसानों के द्वारा केंद्र सरकार के खिलाफ अपनी मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. इस विरोध प्रदर्शन में कई बड़े विपक्षी नेता भी शामिल हुए. इस मौके पर किसानों का साथ देने के लिए कई नेता जंतर मंतर पहुंचे. जिनमें लेफ्ट नेता सीताराम येचुरी, नेशनल कॉन्फ्रेंस के फारूख अब्दुल्ला, आम आदमी पार्टी और राज्यसभा सांसद संजय सिंह और शरद यादव मौजूद थे.

सभा को संबोधित करते हुए लेफ्ट नेता सीताराम येचुरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर विवादित टिप्पणी की. येचुरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पॉकेटमार कह दिया. 

येचुरी ने कहा, 'हमारा विरोध प्रदर्शन और वोटिंग राइट्स इस सरकार को बाहर निकाल देगी. भारतीय जनता पार्टी सिर्फ राम मंदिर को उठाना जानती है. जब भी चुनाव आते हैं बीजेपी राजनीतिक लाभ लेने के लिए राम मंदिर के मुद्दे को उठाने लगती है. बीजेपी राम मंदिर का मुद्दा ध्रुवीकरण के लिए कर रही है.' 

इसके साथ ही सीताराम येचुरी ने बीजेपी की तुलना कौरवों से की. उन्होंने कहा, विपक्षी पार्टियां पांडव की तरह हैं जो बदलाव लाएंगी. उन्होंने कहा, बीजेपी में दो लोग कोरवों की तरह हैं. लेफ्ट नेता सीताराम येचुरी ने बोले, इस सरकार को हटाओं.. पॉकेटमार को भी PM कहते हैं... '

वहीं अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के नेता योगेंद्र यादव ने कहा कि पहली बार किसानों ने अपनी समस्या के समाधान का तरीका खुद तैयार कर सरकार के समक्ष प्रस्तावित कानून के मसौदे के रूप में पेश किया है. उन्होंने कहा कि यह भी पहला अवसर है जब किसानों ने अपने झंडों को एक कर लिया है. इसलिए यह आंदोलन निर्णायक साबित होगा.

किसान यात्रा में शामिल विरिष्ठ पत्रकार पी साईनाथ ने इस आंदोलन को निर्णायक बताते हुए कहा ‘‘इस बार मजदूर और किसान अकेला नहीं है. डॉक्टर, वकील, छात्र और पेशेवर पहली बार अपनी ड्यूटी छोड़कर किसानों के साथ आए हैं.’’  उन्होंने कहा कि इस बार आंदोलनकारी दोनों प्रस्तावित विधेयकों को पारित करने की मांग से पीछे नहीं हटेंगे.

किसान अपनी फसलों के बेहतर MSP समेत कई अन्य मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. लगभग 50 हजार किसान जंतर मंतर पर इस प्रदर्शन में शामिल हुए हैं. 

DO NOT MISS