Politics

कांग्रेसी नेता ने लिखी PM को चिट्ठी, कहा- पाकिस्तान से हो बात, करतारपुर साहिब के लिए जमीन की हो अदला-बदली ..

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

जहां एक तरफ सिखों के पवित्र स्थल करतारपुर साहिब कॉरिडोर को लेकर केंद्र सरकार और पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू आमने सामने नजर आ रहे हैं वहीं अब दूसरी तरफ कांग्रेस के एक अन्य नेता और सांसद प्रताप सिंह बाजवा ने डेरा बाबा नानक करतारपुर साहिब कॉरिडोर को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है. बता दें, इस चिट्ठी में प्रताप सिंह बाजवा ने पाकिस्तान के साथ एक बार फिर से बातचित करने की वकालत की है. बाजवा ने लिखा है कि ''मैंने 8 दिसंबर 2011 में लोकसभा के एक मेंबर होने के नाते.. और अब भी मैं उस बात को दोहराता हूं कि... सर इस मामले में मेरी आपसे प्रार्थना है कि पाकिस्तान के साथ बातचीत का रास्ता अपनाया जाए.. ताकी पाकिस्तान हमें डेरा बाबा नानक करतारपुर साहिब कॉरिडोर को दे दे. जिसके बदले भारत अपनी कोई दूसरी जमीन उन्हें ट्रांसफर कर दे..''

इसके साथ ही बाजवा ने लिखा, ''साल 1962 में एक ऐतिहासिक डील हुई थी जिसमें हमने अपने हिस्से को देकर उस समय पाकिस्तान में आने वाला हुसैनीवाला​​​​​​​ बार्डर को पंजाब में मिला लिया था. हुसैनीवाला बार्डर में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की समाधि है.. आप सिखों के प्रति अपने कमिटमेंट को दिखाइए.'' बता दें, प्रताप सिंह बाजवा ने चिट्ठी में लिखा है कि अगले साल गुरु नानक जी की 550वीं जयंती है. देश के विभाजन के बाद सिख कभी भी करतारपुर साहिब जाकर अच्छे से उनकी जयंती मना नहीं सके हैं. बता दें, करतारपुर साहिब में गुरुनानक जी ने लगभग 18 साल गुजारे थे.

बता दें, इससे पहले भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लेकर जमकर हमला बोला है. संबित पात्रा ने कहा इस पूरे मामले पर कहा है कि, ''देश को नीचा दिखाने के लिए सिद्धू जी द्वारा लगातार प्रयास किए जा रहे हैं जो बहुत ही दुखद और चिंताजनक है. पाकिस्तान के हक में बोलना और भारत के विपरीत बोलना सिद्धू जी की आदत बन गई है.''

इसके साथ ही पात्रा ने कहा, ''हिंदुस्तान की भावनाओं के साथ खिलवाड़ करने का जो काम सिद्धू जी कर रहें है वह राहुल गांधी जी की सहमती के बिना संभव नहीं है. बिना राहुल गांधी के सिद्धू बोल नहीं सकते.. आप सबने देखा कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी सिद्धू को लेकर नाराजगी जाहिर की थी.''

संबित पात्रा ने कहा, डिप्लोमेसी को राजनीतिक हथियार न बनाए कांग्रेस..सिद्धू जिस तरह से बाजवा को लेकर राजनीति कर रहे हैं वो हमें स्वीकार्य नहीं है. 

DO NOT MISS