Politics

नोटबंदी के दो साल पूरे होने पर सरकार के खिलाफ कांग्रेस करेगी विरोध प्रदर्शन

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

8 नवंबर 2016... ये तारीख देश की अर्थव्यवस्था के लिए सबसे ऐतिहासिक दिन में दर्ज है. दरअसल इसी दिन देश की वर्तमान सरकार ने नोटबंदी का फैसला लिया था. दो साल बाद नोटबंदी पर वर्तमान की मोदी सरकार को घेरने के मकसद से विपक्षी दल कांग्रेस ने कमर कस लिया है. कांग्रेस पार्टी 9 नवंबर को देश की राजधानी दिल्ली में 'कैंडल लाइट प्रोटेस्ट मार्च' करेगी. ये मार्च शाम 5 बजे शुरू होगा. कांग्रेस का ये कैंडल लाइट प्रोटेस्ट मार्च जंतर मंतर से RBI मुख्यालय तक जाएगा.

दिल्ली कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है.

माकन ने अपने ट्वीट में लिखा है कि 'सैकड़ों लोगों की मौत का, हज़ारों उद्यमों के तालाबंदी का, लाखों लोगों के बेरोज़गारी का BJP जश्न मनाती है. आओ इनको सबक़ सिखाएं, नोटबंदी की बरसी मनाएं!'.

बता दें, दो साल पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर को रात आठ बजे दूरदर्शन के जरिए देश को संबोधित करते हुए 500 और 1000 के नोट बंद करने का ऐलान किया था.  नोटबंदी की यह घोषणा उसी दिन आधी रात से लागू हो गई थी. इससे कुछ दिन देश में अफरातफरी का माहौल रहा और बैंकों के बाहर लंबी कतारें लगी रहीं. बाद में 500 और 2000 के नये नोट जारी किए गए थे. इसे लेकर कांग्रेस समेत सभी विपक्षी पार्टियों ने सरकार के इस फैसले का जमकर विरोध किया था. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपना विरोध जताने के लिए एटीएम के बाहर कतार में भी खड़े हुए थे. कांग्रेस के अलावा भी सभी विपक्षी पार्टियों ने मोदी सरकार के इस फैसले को सरकार का तानाशाही रवैया बताया था.

सरकार ने ऐलान किया था कि उसने देश में मौजूद काले धन और नकली मुद्रा की समस्या को खत्म करने के लिए ये कदम उठाया है. देश में इससे पहले 16 जनवरी 1978 को जनता पार्टी की गठबंधन सरकार ने भी इन्हीं कारणों से 1000, 5000 और 10,000 रुपये के नोटों का विमुद्रीकरण किया था.

DO NOT MISS